Top
undefined

जहांगीराबाद सीएसपी अलीम खान सहित भोपाल में 12 नए मरीज मिले

- संक्रमित मिले स्वास्थ्य विभाग के अधिकांश अधिकारी-कर्मचारी कोविड-कंट्रोल में पदस्थ - पीएस हेल्थ गोविल के खिलाफ एफआईआर का बढ़ा दबाव - एक मरीज की मौत, दो की अस्पताल से छुट्टी, बाकी 72 अस्पताल में - मरीजों में स्वास्थ्य विभाग के 37, 20 जमाती और पुलिस-परिवार के 13 लोग

जहांगीराबाद सीएसपी अलीम खान सहित भोपाल में 12 नए मरीज मिले
X

भोपाल। मंगलवार सुबह आई रिपोर्ट में 12 और लोग भोपाल में कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। 12 नए मरीजों के साथ कोरोना संक्रमितों की संख्या भोपाल में 75 पहुंच गई है, जिनमें 72 लोग शहर के विभिन्न अस्पतालों में इलाज करा रहे हैं। दो व्यक्ति कोरोना को मात देकर अस्पताल से घर जा चुके हैं, जबकि 62 वर्षीय सिक्यूरिटी गार्ड नरेश खटीक की मौत हो चुकी है। भोपाल में सामान्य मरीज सिर्फ दो लोग ही हैं, जिनमें एक युवक इंदौर से भागकर भोपाल आया था, जबकि एक रेल गार्ड स्वयं अस्पताल पहुंच गए थे। भोपाल में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमितों की संख्या को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सख्त हो गए हैं। उन्होंने वीडियो कांफ्रेंसिंग में स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि भोपाल को किसी भी सूरत में हॉटस्पॉट नहीं बनने देना है। भोपाल के अधिकारियों को टॉस्क दिया है कि किसी भी सूरत में कोई व्यक्ति लॉकडाउन का उल्लंघन न करने पाए। इधर बैठक में उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के तीन दर्जन अधिकारी-कर्मचारियों के कोरोना संक्रमित पाए जाने पर नाराजगी व्यक्त की। मुख्यमंत्री की नाराजगी के बाद प्रशासनिक गलियारे में प्रमुख सचिव स्वास्थ्य पल्लवी जैन गोविल के खिलाफ एपेडिमिक एक्ट के उल्लंघन के तहत मामला दर्ज करने का दबाव बढ़ गया है। हालांकि एसपी साउथ साई कृष्णा थोटा ने कहा कि प्रशासन ने अभी किसी अधिकारी के खिलाफ मामला दर्ज करने का प्रतिवेदन नहीं दिया है।

कोरोना कंट्रोल रूम के जिम्मेदार ही संक्रमित

भोपाल में 75 मरीज अभी तक संक्रमित मिले हैं, जिनमें 72 भर्ती हैं। 72 में पचास प्रतिशत से अधिक 57 मरीज स्वास्थ्य विभाग के हैं। जिनमें प्रमुख सचिव स्वास्थ्य पल्लवी जैन गोविल, एमडी हेल्थ कार्पोरेशन जे विजय कुमार के साथ संयुक्त संचालक डॉ. वीणा सिन्हा, राकेश मुंशी, सहित अन्य शामिल हैं। सरकार ने कोरोना संकट से लडऩे के लिए स्वास्थ्य विभगा में कोविड-१९ का कंट्रोल रूम स्वास्थ्य संचालनालय में बनाया है। कंट्रोल रूम के अधिकारियों-कर्मचारियों पर पूरे प्रदेश में कोरोना के कहर से लडऩे की बड़ी जिम्मेदारी थी। लेकिन स्वास्थ्य विभगा के अधिकांश संक्रमित अधिकारी और कर्मचारी इसी कंट्रोल रूम में पदस्थ रहे हैं। ऐसे में दूसरे कार्यालयों में पदस्थ कर्मचारियों को जल्द ही कंट्रोल रूम भेजा जाएगा। आज जो पांच व्यक्ति संक्रमित आए हैं, उनमें महेंद्र मर्सकोले कंट्रोल रूम के डाटा मैनेजर हैं, सौरभ श्रीवास्तव व धर्मेंद्र टेक्निकल विंग में हैं। सुनील यादव और अशोक कुमार भी कोविड-19 के कंट्रोल रूम के कर्मचारी हैँ।

पुलिस-परिवार के सात लोग

आज की रिपोर्ट में पुलिसकर्मी प्रभुदयाल, महेश और हसन शामिल हैं। प्रभुदयाल का बेटा तनुष, वीरेंद्र चौधरी का बेटा सौरभ व श्रीमती गिरीश शामिल हैं। ऐशबाग थाने के पुलिसकर्मी वीरेंद्र चौधरी भोपाल में पहले कोरोना संक्रमित पुलिसकर्मी हैं, जो रहमानी मस्जिद में जमातियों की सुरक्षा में लगाए गए थे। अब तक पुलिस और उनके परिवार के १३ लोग संक्रमित पाए गए हैं। अधिकांश संक्रमित व्यक्ति टीटी नगर थाने के पास पुलिस कॉलोनी में वीरेंद्र चौधरी के पड़ोसी हैं।

कबूतर-कचौड़ी को बख्शेंगे नहीं

्रबीती रात बुधवारे के पास इस्लामपुरा में कंटेनमेंट क्षेत्र में घूम रहे हिस्ट्रीशीटर बदमाश शाहिद कबूतर, मोहसिन कचौड़ी, माजिद मामू और एक दर्जन अन्य बदमाशों ने उस वक्त पुलिसकर्मियों पर हमला कर दिया था, जब पुलिसकर्मी बदमाशों को लॉकडाउन के दौरान घरों में रहने के लिए कहने पहुंचे थे। एक दर्जन से अधिक बदमाशों ने चाकू, डंडे और पत्थर से पुलिसकर्मियों पर हमला किया था, जिसमें आरक्षक सतीश और लक्ष्मण को चोटें आई हैं। तलैया पुलिस मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश कर रही है। इधर आज सुबह मामले में संज्ञान लेते हुए शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कहा कि दिन-रात एक कर जनता को इस महामारी से बचाने में लगे पुलिसकर्मियों पर हमला बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। 'कबूतरÓ हो या 'कचौड़ीÓ किसी को बख्शा नहीं जाएगा। अराजकता फैलाने वाले गुंडे-बदमाशों को सबक सिखाना अति आवश्यक है। इन गुंडों के खिलाफ एनएसए के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Next Story
Share it