Top
undefined

तीन शहरों में 14 अप्रैल को ख़त्म नहीं होगा लॉक डाउन, मुख्यमंत्री की घोषणा से मिले संकेत

कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण इस बार पूरे एहतियात के साथ खरीद होगी। किसानों को ह्यद्वह्य भेजे जाएंगे, उसके बाद ही उन्हें फसल बेचने खरीद केंद्र पर आना होगा।

तीन शहरों में 14 अप्रैल को ख़त्म नहीं होगा लॉक डाउन, मुख्यमंत्री की घोषणा से मिले संकेत
X

भोपाल। मध्य प्रदेश में 15 अप्रैल से रबी फसल की समर्थन मूल्य पर सरकारी खरीद शुरू हो जाएगी। शिवराज सरकार ने ये फैसला किया है। इस बार 100 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदने का लक्ष्य है। लेकिन कोरोना संकट के कारण इंदौर, भोपाल, उज्जैन के शहरी केंद्रों पर 15 अप्रैल से खरीद शुरू नहीं होगी। इससे ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि इन शहरों में 14 अप्रैल के बाद भी लॉक डाउन जारी रहेगा। पीएम मोदी के ऐलान के बाद देश भर में 14 अप्रैल तक 21 दिन का लॉक डाउन है। उसके बाद ग्रामीण इलाकों में लॉक डाउन पर छूट रहेगी।उसके अगले दिन यानि 15 अप्रैल से सरकार ने प्रदेश में रबी फसल की खरीदी शुरू करने का फैसला लिया है। डेढ़ महीने में 31 मई तक खरीदी का काम पूरा किया जाएगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अफसरों से कहा है कि सभी तरह की व्यवस्था पहले से पूरी कर ली जाएं। किसानों की गेहूं, चना, सरसों और मसूर फसलें समर्थन मूल्य पर खरीदी जाएंगी। मुख्यमंत्री ने प्रदेश में अधिक से अधिक खरीद केंद्र खोलने का निर्देश दिया है। इन केन्द्रों पर जरूरत के मुताबिक अन्य विभागों के अमले की सेवाएं भी ली जाएंगी।

तैयारी की समीक्षा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना संकट के कारण इस बार रबी फसल की खरीद को एक मिशन के रूप में किया जाना है। इससे जुड़ा सरकारी अमला, सहकारी समितियां, मजदूर, हम्माल सभी पूरे सेवा भाव से समर्थन मूल्य खरीदी करें।

स्रूस् मिलने पर ही आएं किसान

मुख्यमंत्री ने कहा है कि खरीदी केंद्रों पर भीड़ न लगे, इस बात का इस बार विशेष ध्यान रखा जाना है। इसके लिए यह ज़रूरी है कि किसानों को एसएमएस और अन्य सूचना माध्यमों से सूचना दी जाए कि उन्हें किस दिन खरीदी केंद्र पर फसल बेचने आना है। किसान उसी दिन अपनी फसल बेचने खऱीदी केंद्र पर आएं।

100 लाख एमटी खरीद का लक्ष्य

इस बार लगभग 100 लाख एमटी गेहूं और 10 लाख एमटी चना, मसूर, सरसों की समर्थन मूल्य पर खरीदी का लक्ष्य रखा गया है। खरीद केंद्रों पर बारदाना, हम्माल, मजदूर, परिवहन, भंडारण की की व्यवस्था की जाएंगी।

पी पी बैग्स का इस्तेमाल

प्रमुख सचिव खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण शिव शेखर शुक्ला ने बताया कि जूट के बोरे उपलब्ध ना होने के कारण इस बार पीपी बैग में माल खरीदा जाएगा। उन्होंने कहा फिलहाल हमारे पास 64 लाख मीट्रिक टन खरीद के लिए पीपी बैग उपलब्ध हैं। और बैग खरीदे जा रहे हैं। प्रदेश में 115 लाख मीट्रिक टन रबी फसल की खरीद के लिए पीपी बैग्स की व्यवस्था की जा रही है।साइलो केंद्रों में खरीदी क्षमता 9 लाख टन है।

4 हज़ार समर्थन मूल्य खरीदी केंद्र

प्रदेश में बीते साल 3545 खरीदी केंद्र थे, जिन्हें बढ़ाकर इस साल 3813 कर दिया गया है। इसके अलावा नए केंद्र भी बनाए जा रहे जा रहे हैं। उसके बाद प्रदेश में कुल 4000 खरीद केंद्र हो जाएंगे।

3 शहरों में लॉक डाउन नहीं होगा खत्म!

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भोपाल इंदौर उज्जैन में 15 अप्रैल से गेहूं की खरीद शुरू नहीं होगी।इनके अलावा पूरे प्रदेश में खरीद होगी। इससे ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि क्या 14 अप्रैल के बाद इन शहरों में लॉक डाउन खत्म नहीं होगा।

Next Story
Share it