Top
undefined

लॉक डाउन उल्लंघन पर हर घंटे में तीन एफआईआर , अबतक 2032 मामले हुए दर्ज

भोपाल में हर घंटे तीन लोगों की लापरवाही सामने आ रही है। पुलिस लॉक डाउन वायलेंस के तहत इन तीन लोगों पर एफआइआर भी दर्ज कर रही है। अब तक कुल 2032 मामले दर्ज किए जा चुके हैं।

लॉक डाउन उल्लंघन पर हर घंटे में तीन एफआईआर , अबतक 2032 मामले हुए दर्ज
X

भोपाल। राजधानी भोपाल में तमाम सख्ती के बावजूद भी लॉक डाउन का पालन नहीं कर रहा है। यही कारण है कि पुलिस को इन लापरवाह लोगों पर एफआईआर दर्ज करनी पड़ रही है। लापरवाही का यह आंकड़ा 2000 के पार पहुंच चुका है। भोपाल में हर घंटे तीन लोगों की लापरवाही सामने आ रही है। पुलिस लॉक डाउन उल्लंघन के तहत इन तीन लोगों पर एफआइआर भी दर्ज कर रही है। अब तक कुल 2032 मामले दर्ज किए जा चुके हैं। लॉक डाउन का पहला दौर खत्म होने के बाद लग रहा था कि भोपाल में थोड़ी नरमी बरती जाएगी लेकिन लॉक डाउन का उल्लंघन करने की वजह से प्रशासन सख्त है। यही कारण है कि लोगों पर पाबंदियां लगातार बढ़ाई जा रही हैं। अभी तक घरों से निकलने पर पाबंदी थी, लेकिन अब किसी भी काम के लिए बाहर जाने पर दोपहिया वाहनों में एक व्यक्ति और कार में दो व्यक्तियों के साथ माक्स पहनना अनिवार्य कर दिया गया है। इनका उल्लंघन करने वालों पर एफआईआर का प्रावधान किया जा चुका है।

आंकड़ा पहुंचा 2 हजार के पार

22 मार्च से अब तक लॉकडाउन उल्लंघन के कुल 2032 मामले दर्ज हुए हैं। बीते 24 घंटे में भोपाल पुलिस ने 145 अपराध दर्ज किए गए हैं। लापरवाही का यह आंकड़ा दिन-ब-दिन बढ़ता ही जा रहा है। पुलिस की सख्ती का असर इन लापरवाह लोगों पर नजर नहीं आ रहा है। हालांकि प्रशासन लगातार इस लापरवाही पर शिकंजा कसने की कोशिश कर रही है। तमाम तरीके के प्रावधान निकाले जा रहे हैं ताकि लॉक डाउन का पालन शत-प्रतिशत हो सके।

इंदौर जैसे ना हों हालात

केंद्र सरकार की टीम ने इंदौर का मूल्यांकन वहां लॉक डाउन का उल्लंघन, सोशल डिफेंस का पालन नहीं करने के साथ स्वास्थ्य टीम की सुरक्षा और राहत शिविर की स्थिति के बिंदुओं पर किया है। केंद्र की टीम ने जयपुर, मुंबई की तरह इंदौर में भी बुरे हाल बताएं हैं। अब भोपाल में भी लगातार बढ़ रहे मामलों को देखकर यही लगता है कि यहां पर इंदौर जैसे हालात बन रहे हैं।

तलैया पुलिस की टीम पर हो चुका है हमला

भोपाल में कुछ दिनों पहले तलैया पुलिस की टीम पर हमला भी हो चुका है। इसके अलावा नगर निगम कर्मचारियों से भी अभद्रता की जा रही है। राजधानी के पुराने शहर में सबसे ज्यादा लॉक डाउन वायलेंस किया जा रहा है।

Next Story
Share it