Top
undefined

सोशल डिस्टेंस के साथ 22 अप्रैल से कॉपी चैंकिंग शुरू, ये हैं गाइड लाइंस

लॉक डाउन के कारण 10 वीं-12वीं की 21 मार्च से सारी परीक्षाएं स्थगित हैं। जो भी पेपर हो चुके हैं उनका मूल्यांकन कराया जा रहा है। लॉक डाउन खत्म होते ही बाकी पेपर के लिए मंडल 10 दिन के भीतर बचे हुए पेपर्स की तारीखें घोषित कर दी जाएंगी। परीक्षा होते ही बाकी कॉपियां भी चैक की जाएंगी। चैकिंग का काम पूरा होते ही 17 दिन के अंदर रिजल्ट घोषित कर दिया जाएगा

सोशल डिस्टेंस के साथ 22 अप्रैल से कॉपी चैंकिंग शुरू, ये हैं गाइड लाइंस
X

भोपाल। लॉक डाउन के बीच 10 वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षाओं की कॉपी चैकिंग का काम जल्द शुरू हो रहा है। कॉपी घर पर चैक की जाएंगी। कॉपी चैकिंग के लिए माध्यमिक शिक्षा मंडल ने गाइडलाइन जारी की हैं। कड़ी सुरक्षा के बीच कॉपी के बंडल शिक्षकों के घर भेजे जाएंगे। 22 से 25 अप्रैल के बीच कॉपी चैकिंग शुरू हो जाएगी।

एक शिक्षक को दी जाएंगी 450 कॉपियां

एमपी बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं 2 और 3 मार्च से शुरू हुई थीं।19 मार्च तक पेपर हो पाए थे। कोरोना संक्रमण के कारण एहतियात के तौर पर स्कूल बंद कर दिए गए और 21 मार्च से होने वाले सारे पेपर स्थगित कर दिए गए थे। 2 से 17 मार्च तक हो चुके पेपर की कॉपियां जांची जाना हैं। वो काम अब शुरू हो रहा है। ये कॉपियां जिले की समन्वयक संस्था या प्राचार्य के माध्यम से मूल्यांकनकर्ताओं को सौंपी जाएंगी।कलेक्टर पर्यवेक्षण के लिए एक नोडल अधिकारी भी नियुक्त करेंगे।प्रत्येक शिक्षक को मूल्यांकन के लिए करीब 450 कॉपियों का बंडल सौंपा जाएगा।शिक्षकों को 10 दिन में कॉपियां जांचनी हैं। हर जिले में कलेक्टर के निर्देशन में ही मूल्यांकन कार्य किया जाएगा।

होलोक्राफ्ट स्पीकर क्षतिग्रस्त होने पर होगी कड़ी कार्रवाई

लॉक डाउन होने के कारण कॉपी घर पर ही चैक करने के लिए दी जाएंगी। शिक्षक अपने घर में कॉपी जांचेंगे। इस काम में किसी तरह की गड़बड़ी ना हो इसलिए ज़रूरी निर्देश जारी किए गए हैं। जो निर्देश हैं उसके मुताबिक होलोक्राफ्ट स्टीकर हटाए बिना ही कॉपियां चेक की जाएंगी। अगर किसी भी कॉपी का होलोक्राफ्ट स्टीकर खराब हुआ तो संबंधित मूल्यांकन करता पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। ओएमआर शीट में उप मुख्य परीक्षक की देखरेख में ही नंबर भरे जाएंगे।

प्राचार्य को 50 हजार रुपए

10 वीं-12 वीं बोर्ड की कॉपियां कड़ी सुरक्षा के बीच बंद गाडिय़ों से शिक्षकों के घर तक पहुंचाई जाएंगी। जिला शिक्षा अधिकारी की ओर से नियुक्त अधिकारी, कर्मचारी या उप मुख्य परीक्षक ही इन गाडिय़ों में जाएंगे और कॉपी देकर आएंगे। माध्यमिक शिक्षा मंडल की ओर से प्रत्येक प्राचार्य और मूल्यांकन केंद्र अधिकारी को गाड़ी की व्यवस्था करने के लिए 50 हज़ार रुपए दिए हैं। संक्रमित जिलों और क्षेत्रों में सुरक्षा के साथ कॉपियां पहुंचाने के निर्देश दिए गए हैं।

सोशल डिस्टेंस बनाए रखें

माध्यमिक शिक्षा मंडल ने साफ निर्देश दिए हैं कि कॉपी ले जाने और उन्हें शिक्षकों को देते वक्त सोशल डिस्टेंस बनाए रखें। कॉपियां देते वक्त अधिकारी, कर्मचारी और शिक्षक मास्क और ग्लब्स जरूर पहनें।मूल्यांकन के पहले और बाद में सेनेटाइजर का इस्तेमाल करें।

जल्द आएगा रिजल्ट

लॉक डाउन के कारण 10 वीं-12वीं की 21 मार्च से सारी परीक्षाएं स्थगित हैं। जो भी पेपर हो चुके हैं उनका मूल्यांकन कराया जा रहा है। लॉक डाउन खत्म होते ही बाकी पेपर के लिए मंडल 10 दिन के भीतर बचे हुए पेपर्स की तारीखें घोषित कर दी जाएंगी। परीक्षा होते ही बाकी कॉपियां भी चैक की जाएंगी। चैकिंग का काम पूरा होते ही 17 दिन के अंदर रिजल्ट घोषित कर दिया जाएगा।

Next Story
Share it