Top
undefined

स्वास्थ्य निगम के एमडी कोरोना पॉजिटिव, छह सरकारी मेडिकल कालेजों में 319 वेंटिलेटर और 394 आईसीयू बेड तैयार

ग्वालियर और जबलपुर टोटल लॉक डाउन की अवधि बढ़ाई गई, मुरैना में लगाया कर्फ्यू

स्वास्थ्य निगम के एमडी कोरोना पॉजिटिव, छह सरकारी मेडिकल कालेजों में 319 वेंटिलेटर और 394 आईसीयू बेड तैयार
X

भोपाल. मध्य प्रदेश में कोरोना के अब तक 120 संक्रमित मिले हैं। इनमें से 89 मामले सिर्फ इंदौर में हैं। भोपाल और इंदौर में संक्रमितों की संख्या बढ़ने से सरकार यहां लॉकडाउन की अवधि नए नियमों के साथ बढ़ाई जा सकती है। वहीं, मुरैना में पति-पत्नी की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर यहां कर्फ्यू लगा दिया गया है। इसे देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने प्रदेश में मरीजों के लिए संसाधनों की व्यवस्था कर रही है। प्रदेश के छह सरकारी मेडिकल कालेजों में 319 वेंटिलेटर और 394 आईसीयू बेड हैं। इधर, सरकार के सामने एक नए तरीके का संकट सामने आया है। राज्य के स्वास्थ्य निगम के एमडी व आयुष्मान भारत निरामयम सोसायटी के सीईओ आईएएस अधिकारी जे विजय कुमार की गुरुवार को आई जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। कोरोना की पुष्टि के लिए दोबारा सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे गए हैं।

अब 9 जिलों में पहुंचा कोरोना संक्रमण

मुरैना के शामिल होने के बाद अब कोरोना संक्रमण प्रदेश के 52 में से 9 जिलों में पहुंच चुका है। इन जिलोंं में इंदौर, भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर, शिवपुरी, मुरैना, खरगोन, उज्जैन और छिंदवाड़ा शामिल हैं। कोरोना वायरस से प्रदेश में उत्पन्न आपात स्थिति से निपटने के लिए मप्र सरकार सर्वोच्च स्तर पर समीक्षा कर रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान हर रोज इस कार्य में लगे अधिकारियों से लगातार स्थिति की समीक्षा ले रहे हैं।

5565 लोग होम आइसोलेशन में

प्रदेश में 1455 लोगों के नमूने लिए गए, जिसमें 1086 की रिपोर्ट निगेटिव आए हैं। इसके अलावा 711 लोगों को अस्पताल में आइसोलेशन में रखा गया है, जबकि 5565 लोग होम आइसोलेशन में हैं। वहीं 15450 यात्रियों को निगरानी के लिए चिन्हांकित किया गया है। प्रदेश में कोरोना से प्रभावित 119 लोगों में से एक को छोड़ सभी की हालत स्थिर बताई जा रही है।

प्रदेश के छह सरकारी मेडिकल कॉलेजों में 319 वेंटिलेटर

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, लगातार फैल रहे कोरोना के संक्रमण और प्रसार से निपटने के लिए शासकीय और निजी मेडिकल कॉलेजों में आईसीयू बेड और वेंटिलेटर की सुविधा प्रदान की गई है। शासकीय मेडिकल कॉलेज- भोपाल, इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर, रीवा और सागर में 394 आईसीयू बेड और 319 वेंटीलेटर की व्यवस्था की गई है। वहीं आठ निजी मेडिकल कॉलेजों में 418 आईसीयू बेड और 332 वेंटिलेटर के प्रबंध किए गए हैं। अभी तक चिन्हित किए गए 107 प्राइवेट अस्पतालों में 273 आइसोलेशन बेड एवं 1261 आईसीयू बेड बनाए गए हैं। इन्हीं अस्पतालों में 385 वेंटिलेटर की व्यवस्था भी की गई है। कोरोना वायरस की टेस्टिंग की सुविधा के लिए छह टेस्टिंग लैब में जांच की जा रही है। इसमें एम्स और जीएमसी भोपाल के साथ ही जबलपुर की आईसीएमआर लैब और इंदौर के एमजीएम मेडिकल कॉलेज की लैब शामिल है।

Next Story
Share it