Top
undefined

एमपी में कोरोना पॉजिटिव के 44 नए मामले आए सामने, अब मरीजों की संख्या हुई इतनी, 37 ने तोड़ा दम

भोपाल में कोविड- 19 के पिछले 24 घंटों में 21 मामले पॉजिटिव आए हैं। इसी के साथ भोपाल में इस महामारी की चपेट में आये मरीजों की संख्या बढ़कर अब 119 हो गई है।

एमपी में कोरोना पॉजिटिव के 44 नए मामले आए सामने, अब मरीजों की संख्या हुई इतनी, 37 ने तोड़ा दम
X

भोपाल। मध्य प्रदेश में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस संक्रमण के 44 नए मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही प्रदेश में इस बीमारी की चपेट में आने वाले लोगों की तादाद बढ़कर 470 पर पहुंच गई है। इनमें से अब तक 37 लोगों की मौत हो चुकी है। अधिकारियों ने बताया कि प्रदेश में पाए गए 470 कोरोना मरीजों में से प्रदेश की आर्थिक राजधानी माने जाने वाले शहर इन्दौर में अब तक सर्वाधिक 249 कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। पिछले 24 घंटों में इंदौर में 14 नये मामले सामने आये हैं। वहीं, भोपाल में कोविड- 19 के पिछले 24 घंटों में 21 मामले पॉजिटिव आये हैं। इसी के साथ भोपाल में इस महामारी की चपेट में आये मरीजों की संख्या बढ़कर अब 119 हो गई है। स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि इंदौर में 65 वर्षीय एक आयुर्वेद चिकित्सक की कोविड-19 से शुक्रवार को दम तोडऩे के बाद प्रदेश में अब तक 37 लोगों की इस वायरस के संक्रमण से मौत हो चुकी है। इनमें से इंदौर में 27, उज्जैन में पांच, खरगोन में दो एवं भोपाल, देवास एवं छिंदवाड़ा में एक-एक शामिल हैं। सागर जिले में पहली बार आज एक कोरोना वायरस संक्रमित मरीज आने के बाद मध्य प्रदेश के 52 जिलों में से 20 जिलों में इस महामारी ने अब दस्तक दे दी है।

प्रदेश में कुल 470 कोरोना वायरस संक्रमित पाये गये हैं

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया, गुरूवार रात तक मध्य प्रदेश में कुल 470 कोरोना वायरस संक्रमित पाये गये हैं। प्रदेश में सबसे अधिक 249 कोरोना मरीज इन्दौर में मिले हैं, जबकि इसके बाद 119 मरीज भोपाल में, 16 उज्जैन में, 14- 14 मुरैना, खरगोन एवं बड़वानी में, नौ जबलपुर में, छह- छह ग्वालियर एवं होशंगाबाद में, पांच खंडवा में, चार विदिशा में, तीन देवास में, दो-दो छिंदवाड़ा एवं शिवपुरी में और एक- एक मरीज बैतूल, श्योपुर, रायसेन, धार, सागर एवं शाजापुर में मिले हैं। कोरोना संक्रमित एक मरीज दूसरे राज्य का है।

37 मरीज अब स्वस्थ हो गये हैं

उन्होंने बताया कि इनमें से 37 मरीज अब स्वस्थ हो गये हैं और उन्हें अस्पतालों से छुट्टी दे दी गयी है। 37 मरीजों के मरने एवं 37 मरीजों के डिस्चार्ज होने के बाद अब प्रदेश में कुल 396 संक्रमित मरीज रह गये हैं, जिनमें से 370 मरीजों की हालत स्थिर बनी हुई है, जबकि आठ मरीजों की स्थिति गंभीर बनी हुई है। वहीं, देश में कोरोना वायरस के प्रकोप से सबसे ज्यादा प्रभावित शहरों में शामिल इंदौर में इस महामारी की जद में आये 65 वर्षीय आयुर्वेद चिकित्सक सहित चार और मरीजों की मौत की शुक्रवार को आधिकारिक पुष्टि की गयी। इसके साथ ही, शहर में इस संक्रमण के बाद दम तोडऩे वाले मरीजों की तादाद बढ़कर 27 पर पहुंच गयी है। इंदौर जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ। प्रवीण जडिय़ा ने बताया कि जिला आयुष अधिकारी के रूप में डेढ़ साल पहले सेवानिवृत्त हुए 65 वर्षीय आयुर्वेद चिकित्सक ने शहर के एक निजी अस्पताल में शुक्रवार को आखिरी सांस ली। उन्होंने कहा, हमें लगता है कि कोरोना वायरस संक्रमण के बाद दम तोडऩे वाले आयुर्वेद चिकित्सक अपने निजी क्लिनिक में कोविड-19 के किसी मरीज के इलाज के दौरान कुछ दिन पहले उसके संपर्क में आये होंगे। हम जांच के जरिये इस बात की पुष्टि का प्रयास कर रहे हैं। जडिय़ा ने बताया कि पिछले दिनों आयुर्वेद चिकित्सक से इलाज करने वाले मरीजों का रिकॉर्ड जुटाया जा रहा है। उन्हें ढूंढकर पृथक वास में भेजा जायेगा और उनकी सेहत की नियमित जांच की जायेगी।

जनरल फिजिशियन कोरोना वायरस से संक्रमित पाये गये थे

इससे पहले, शहर के 62 वर्षीय जनरल फिजिशियन कोरोना वायरस से संक्रमित पाये गये थे। उन्होंने एक निजी अस्पताल में बृहस्पतिवार सुबह दम तोड़ दिया था। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के मुताबिक जनरल फिजिशियन अस्पताल में भर्ती होने से पहले अपने निजी क्लीनिक में 28 मार्च तक मरीज देख रहे थे। वहीं, शासकीय महात्मा गांधी स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय इंदौर के एक अधिकारी ने बताया कि शहर के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती 52 वर्षीय पुरुष, 65 वर्षीय पुरुष और 70 वर्षीय पुरुष ने पिछले दो दिन के दौरान दम तोड़ा। अधिकारी ने बताया कि प्रयोगशाला से आयी जांच रिपोर्ट में तीनों मरीज कोरोना वायरस से संक्रमित पाये गये थे।

Next Story
Share it