Top
undefined

16 से 18 घंटे काम में भिड़े मुख्यमंत्री

प्रदेश सरकार और मुख्यमंत्री की सक्रियता का ही असर हैं कि अन्य राज्यों की अपेक्षा मप्र में कोरोना वायरस का संक्रमण काफी नियंत्रित है।

16 से 18 घंटे काम में भिड़े मुख्यमंत्री
X

भोपाल। कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान संकट की इस घड़ी में प्रदेश की साढ़े सात करोड़ आबादी के लिए प्रेरणास्रोत बने हुए हैं। वे जहां प्रदेश की जनता का मनोबल बढ़ा रहे हैं, वहीं 16 से 18 घंटे तक लगातार काम कर करते हुए प्रदेश के सभी जिलों की स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। प्रदेश सरकार और मुख्यमंत्री की सक्रियता का ही असर हैं कि अन्य राज्यों की अपेक्षा मप्र में कोरोना वायरस का संक्रमण काफी नियंत्रित है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान रोजाना सुबह से ही प्रदेश के हालातों की जानकारी लेने में जुट जाते हैं। उन्होंने करीब एक दर्जन अधिकारियों की टीम बनाई है। यह टीम रोजाना प्रदेशभर से जानकारियां एकत्रित कर मुख्यमंत्री को देती है। मुख्यमंत्री उस पर काम करते हैं। वे प्रदेश की जनता से रोजाना संचार माध्यमों से रूबरू हो रहे हैं साथ ही हर घर तक खाद्य सामग्री पहुंचाने की व्यवस्था के लिए प्रेरित करने मेंं जुटे हैं।

आज 4 बजे सभी कलेक्टरों से करेंगे चर्चा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज 4 बजे इंदौर सहित प्रदेश भर के संभागायुक्त, कलेक्टरों और वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से कोरोना वायरस से उत्पन्न वर्तमान हालातों के संबंध में वीडियो कांफ्रेंस के जरिए प्रत्येक जिले की समीक्षा करेंगे। इंदौर में तो जहां सबसे अधिक 135 पाजिटिव मरीज मिले हैं, वहीं भोपाल में भी पहली मौत हुई और 23 पाजिटिव मरीज 24 घंटे में पाए गए।

पर्याप्त सुविधाएं और दवाएं और भोजन व्यवस्था

मप्र में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए पर्याप्त सुविधाएं हैं। मुख्यमंत्री के निर्देश पर सभी शासकीय और निजी अस्पतालों में स्वास्थ्य सुविधाएं दुरुस्त कर दी गई हैं। वहीं दवाओं का भी पर्याप्त प्रबंध है। मुख्यमंत्री ने जरूरतमंद लोगों के खाने की पूरी जिम्मेदारी संभाल ली है। प्रदेश भर में जहां जरूरतमंद लोग हैं उनके पास सरकारी या सामाजिक एवं धार्मिक संगठनों के माध्यम से खाना पहुंच रहा है। वहीं पिछले दिनों मजदूरों के खातों में राहत राशि भी ट्रांसफर की गई है।

Next Story
Share it