Top
undefined

52 लाख विद्यार्थियों के खातों में 430 करोड़ की राशि डाली

विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति की राशि के लिए अब इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा

52 लाख विद्यार्थियों के खातों में 430 करोड़ की राशि डाली
X

भोपाल, कोरोना वायरस के संक्रमण के बीच मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने घर बैठे विद्यार्थियों को एक बड़ी सौगात दी है। प्रदेश के 52 लाख विद्यार्थियों के बैंक खातों में 430 करोड़ की छात्रवृत्ति की राशि डाली गई है, ताकि छात्रृवत्ति की राशि के लिए विद्यार्थियों को इधर-उधर भटकना न पड़े। पूर्व में भी मुख्यमंत्री के रूप में शिवराजसिंह चौहान ने हमेशा विद्यार्थियों का ध्यान रखा है। खासकर सरकारी स्कूलों में पढऩे वाले विद्यार्थियों को किसी तरह की कोई परेशानी न आए इसके लिए उनके लिए 17 तरह की योजना चलाई गई थीं। अभी कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते 21 दिनों का लॉकडाउन है और स्कूल‑कालेज भी बंद पड़े हुए हैं। इस विपरीत परिस्थिति में भी मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद उन्होंने विद्यार्थियों को एक बड़ी सौगात दी है। प्रदेश के पहली से बारहवीं तक में पढऩे वाले 52 लाख वे विद्यार्थी जो छात्रवृत्ति के पात्र हैं, उनके बैंक खातों में 430 करोड़ की राशि ऑनलाइन ट्रांसफर की गई है, ताकि विद्यार्थी कोरोना वायरस के बीच जब बैंकें खुलें तो यह राशि अपने खातों से निकला सकें। छात्रवृत्ति की राशि ऑनलाइन डालने के समय स्कूली शिक्षा विभाग की प्रमुख सचिव रश्मि अरुण शमी, लोक शिक्षण संचालनालय की आयुक्त जयश्री कियावत और लोक शिक्षण संचालनालय की अपर संचालक डा. कामना आचार्य भी उपस्थित थीं।

इस वर्ग को इतनी राशि मिली

शिक्षा विभाग के सूत्रों के अनुसार 430 करोड़ रुपए की राशि विभिन्न तरीके के छात्रृवत्ति योजना के लिए दी गई है। इनमें सामान्य, निर्धन वर्ग छात्रवृत्ति योजना में 1 लाख 26 हजार 186 विद्यार्थियों के लिए 3 करोड़ 22 लाख 61हजार 500 रुपए, सुदामा प्री मैट्रिक योजना में 95 हजार 713 विद्यार्थियों के बैंक खाते में 3 करोड़ 38 लाख 75 हजार 500 रुपए, स्वामी विवेकानंद पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना में 46 हजार 264 विद्यार्थियों को 2 करोड़ 44 लाख 79 हजार, सुदामा शिष्यवृत्ति योजना के 378 विद्यार्थियों के लिए 19 लाख 52 हजार 250 रुपए शामिल हैं। इसी तरह अन्य तरह की छात्रवृत्ति योजना के लिए छात्रों की संख्या के हिसाब से लाखों रुपए की राशि ऑनलाइन डाली गई है।

Next Story
Share it