Top
undefined

थमने का नाम नहीं ले रहा कोरोना का कहर, भोपाल में कोरोना की संख्या पहुंची 262

शुक्रवार और शनिवार को भेजे गए करीब 3 हजार 500 सैंपल की रिपोर्ट आना बाकी है, रिपोर्ट आज शाम तक आने की उम्मीद जताई जा रही है.

थमने का नाम नहीं ले रहा कोरोना का कहर, भोपाल में कोरोना की संख्या पहुंची 262
X


भोपाल। सोमवार को राजधानी भोपाल में कोरोना संक्रमित नए 27 मरीजों की पुष्टि हुई है। इन नए मरीजों के साथ भोपाल में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 262 पर पहुंच गई है। शुक्रवार और शनिवार को भेजे गए करीब 3 हजार 500 सैंपल की रिपोर्ट आना बाकी है। रिपोर्ट आज शाम तक आने की उम्मीद जताई जा रही है। जिला प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार आज 275 सैंपल की रिपोर्ट आई है। इसमें से 27 मरीज पॉजिटिव पाए गए हैं। बाकी 248 की रिपोर्ट निगेटिव आई है। इनमें से कुछ लोग पहले से ही आइसोलेट हैं। बाकी को अस्पतालों में शिफ्ट किया जा रहा है।

रविवार को भी मिले थे 27 मरीज

रविवार को भी 450 सैंपल की रिपोर्ट आई थी। जिनमें से 27 नए पॉजिटिव मिले थे। इनमें दीनदयाल रसोई में काम करने वाला नगर निगम कर्मचारी, एक दूधवाला, पांच जमाती, चार पुलिस कर्मचारी और चार अन्य बच्चे भी शामिल हैं। इसमें एक नौ दिन की बच्ची भी है।

आंगनबाड़ी व पंचायत कर्मियों को सीएम कोविड-19 योद्धा का दर्जा

कोरोना महामारी की जंग में घर-घर जाकर कोविड-19 की लड़ाई लड़ रहीं प्रदेश 1.80 लाख आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, सहायिकाओं और पंचायत एवं ग्रामीण विकास के करीब 45 हजार कर्मचारियों को डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ और पुलिस की तरह ही कोविड-19 योद्धा का दर्जा मिल गया है। इस योजना में इन्हें शामिल करने के लिए महिला एवं बाल विकास विभाग के प्रमुख सचिव अनुपम राजन एवं पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव मनोज श्रीवास्तव ने समस्त कलेक्टरों को रविवार को आदेश जारी कर दिए हैं। इससे प्रदेश के सवा दो लाख कर्मचारी सीएम कोविड-19 कल्याण योद्धा योजना में शामिल हो गए हैं।

अब इन्हें सुरक्षा किट, 10 हजार रुपए की प्रोत्साहन राशि व 50 लाख रुपए का बीमा कवर किया जाएगा। दरअसल इन कर्मियों को इस योजना में शामिल करने के लिए असंगठित क्षेत्र कर्मकार कल्याण मंडल के पूर्व अध्यक्ष रहे सुल्तान सिंह शेखावत ने सीएम शिवराज सिंह चौहान से चर्चा की थी। इसके बाद दोनों विभागों द्वारा कलेक्टरों को आदेश जारी किए हैं। महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि योजना में आंगनबाड़ी कर्मियों को महिला बाल विकास के अधिकारियों, पर्यवेक्षकों, लिपकीय अमले के अतिरिक्त आउट सोर्स कर्मियों को रेपिड रिस्पॉन्स टीम में शामिल किया गया है।

Next Story
Share it