Top
undefined

करोना क्षेत्र में ड्यूटी करते हुए आरक्षक जितेंद्र सूर्यवंशी ने लिखी कविता

नई दिल्ली पॉइंट पर ड्यूटी कर रहे आरक्षक जितेंद्र सूर्यवंशी ने कोरोना पर एक छोटी सी कविता लिखी है

करोना क्षेत्र में ड्यूटी करते हुए आरक्षक जितेंद्र सूर्यवंशी ने लिखी कविता
X

नागदा, नागदा थाने पर कोरोना प्रभावित क्षेत्र किरण टॉकीज नई दिल्ली पॉइंट पर ड्यूटी कर रहे आरक्षक जितेंद्र सूर्यवंशी ने कोरोना पर एक छोटी सी कविता लिखी है एवं सभी से अपील की है कि सभी अपने घरों में रहिए एवं सुरक्षित रहिए जल्द ही इस समस्या से हम सब मिलकर छुटकारा पा लेंगे अतः सभी सावधानीपूर्वक इस संक्रमण से लड़ने में अपना सहयोग प्रदान कर शासन एवं प्रशासन का सहयोग करने की अपील की"कोरोना को हराना है" डरना नहीं समझना है कोरोना को हराना है, हिम्मत नहीं हारना है आगे बढ़ते जाना है, एक दिन सब अच्छा होना है बुरा वक्त है चाहे कोरोना ही क्यों ना हो कोरोना को तो एक दिन गुजर जाना है, हमें सतर्क रहकर अपने परिवार और समाज को इस संक्रमण से बचाना है, सबको साथ मिलकर चलना है कोरोना को हराना है, मुंह पर मास्क एवं हाथों में ग्लव्स पहनना है पलपल हाथों को धोना है हर चीज को कोरोना समझना है, कोरोना से नहीं डरना है, यह पहला युद्ध है जिसे घर बैठकर जितना है, कुछ तुम्हें करना है कुछ हमें करना है बस हम सबको मिलकर कोरोना को हराना है, जो रह गए हैं पीछे उन्हें साथ लेकर चलना है उनकी भी एक जिंदगी है उनका भी एक सपना है, बस हम सबको साथ मिलकर चलना है कोरोना को हराना है, जो कर रहे हैं मेहनत दिन रात डॉक्टर, सफाई कर्मी और पुलिस उनका सहयोग एवं सम्मान करना है, हमें घर बैठकर ही उनका हौसला बढ़ाना है, हम सबको मिलकर कोरोना को हराना है, अंधेरा है तो क्या हुआ कल फिर नया सूरज आना है, हिम्मत नहीं हारना है हम सबको मिलकर कोरोना को हराना है

Next Story
Share it
Top