Top
undefined

बाबा महाकाल की नगरी में कोरोना का आकंड़ा पहुंचा 150 पर, रेड जोन में उज्जैन

उज्जैन में 23 अप्रैल को सबसे ज्यादा 43 पॉजिटिव मिले थे, 25 मार्च को सामने आया था पहला मरीज.

बाबा महाकाल की नगरी में कोरोना का आकंड़ा पहुंचा 150 पर, रेड जोन में उज्जैन
X


उज्जैन। धार्मिक नगर उज्जैन में कोरोना का संक्रमण लगातार पैर पसार रहा है। शनिवार सुबह जारी रिपोर्ट में तीन नए मामले सामने आए। वहीं, दो लोगों की मौत की पुष्टि हुई। इसे मिलाकर जहां संक्रमितों का आंकड़ा अब 150 पहुंच गया है। वहीं, मरने वालों की संख्या 29 हो गई है। अब तक 3078 लोगों के सैंपल लिए जा चुके हैं। इनमें से अब तक 2878 लोगों की रिपोर्ट आ चुकी है। इनमें से 2349 लोगों में संक्रमण नहीं मिला। वहीं, 343 लोगों के सैंपल रिजेक्ट हुए हैं। अब तक चार लोग ठीक होकर अपने घर लौट चुके हैं। इसके अलावा 6712 लोग होम क्वारैंटाइन किए गए हैं।

केडी गेट व कमरी मार्ग सबसे ज्यादा संक्रमित

सबसे ज्यादा असर भार्गव मार्ग, केडी गेट, कमरी मार्ग के कंटेनमेंट एरिया में है, जहां 29 पॉजिटिव हैं। दूसरा नागौरी मोहल्ला, तोपखाना, अमरपुरा कंटेनमेंट क्षेत्र है जहां 25 पॉजिटिव हैं। तीसरा बेगमबाग, जबरन कॉलोनी कंटेनमेंट है जहां 12 पॉजिटिव हैं। सबसे पहले कंटेनमेंट क्षेत्र बने जांसापुरा में 8, गीता कॉलोनी, पटेल मार्ग, रविंद्रनाथ टैगोर मार्ग एरिया में 7 पॉजिटिव हैं। 9 कंटेनमेंट एरिया में 1-1, 3 में 2-2 तथा 2 में 3-3, 1 में 4 तथा 2 में 5 पॉजिटिव मरीज मिले।

23 अप्रैल- कोरोना ब्लॉस्ट का दिन

25 मार्च को पहला पॉजिटिव मिला था। इन दिनों में 23 अप्रैल ऐसी तारीख है जो कोरोना विस्फोट के रूप में जानी जाएगी। इस दिन 43 पॉजिटिव मिले। इसके पहले 22 को 20 और इसके बाद 24 को 15 पॉजिटिव आए। 39 में से 15 दिन सुकून के थे जब एक भी पॉजिटिव नहीं आया।

10 लोगों को हाई बीपी और शुगर थी

कोरोना पॉजिटिव सबसे ज्यादा 10 लोगों की मौत हाई बीपी, अस्थमा, दिल की बीमारियां, शुगर के कारण चपेट में आने से हुई है। कोरोना के लक्षणों वाली बीमारियों से 4 तथा 11 अन्य की मौत कोरोना के साथ हाईपरटेंशन व बीमारियों के कारण चपेट में आने से हुई। विश्लेषकों ने पीड़ितों की बीमारियों को 12 केटेगरी में रखा है। विश्लेषकों के अनुसार जिन मरीजों को पहले से हाइपरटेंशन, शुगर, अस्थमा, बीपी जैसी गंभीर बीमारियां हैं, उन्हें बहुत सावधान रहना चाहिए। यदि उन्हें कोरोना के प्रमुख लक्षण जैसे सर्दी, जुखाम, बुखार, सिरदर्द, सांस लेने में परेशानी आदि नजर आते हैं तो तुरंत जांच कराना चाहिए।

Next Story
Share it
Top