Top
undefined
Breaking

राज्यपाल को हटाने के लिए हाईकोर्ट में जनहित याचिका लगाई गई, वकील बोले- संविधान का उल्लंघन किया गया

राज्यपाल को हटाने के लिए हाईकोर्ट में जनहित याचिका लगाई गई, वकील बोले- संविधान का उल्लंघन किया गया

जयपुर। राजस्थान में सियासी घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा हा। अब हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका लगाई गई है। जिसमें राज्यपाल को हटाने की मांग की गई है। वकील शांतनु पारिख द्वारा ये जनहित याचिका दायर की गई है। जिसमें यूनियन गवर्नमेंट को भी पक्ष बनाया गया है। वकील शांतनु का कहना है कि अगर सरकार कह रही है कि विधानसभा का सत्र बुलाना चाहिए। इस पर राज्यपाल सत्र बुलाने के लिए बाउंड हैं।

शांतनु ने कहा कि सरकार बहुमत में नहीं है तो राज्यपाल स्पेशल सेशन बुला सकते हैं। वहीं, सरकार के पास बहुमत है तो वो कैबिनेट नोट से विधानसभा का सत्र बुलाया जा सकता है। जो राज्यपाल द्वारा कैबिनेट को नोट भेजा गया है वो भी संविधान का उल्लंघन है। इसलिए मैने यूनियन गवर्नमेंट को पार्टी बनाया है। जिससे वो राष्ट्रपति को एडवाइस करें कि राज्यपाल को तुरंत हटाया जाए। उन्होंने बताया कि आज याचिका फाइल की है। जो कल या परसो तक कोर्ट में लग जाएगी।

राज्यपाल द्वारा दूसरी बार लौटाई गई फाइल

गौरतलब है कि राज्यपाल ने विधानसभा का सत्र बुलाने की फाइल दूसरी बार लौटा दी है। राज्यपाल ने कहा है कि कोरोना के बीच विधायकों को सदन में बुलाना मुश्किल होगा। विधानसभा सत्र के दौरान सामाजिक दूरी की पालना किस प्रकार की जाएगी? राज्यपाल ने सरकार से पूछा है कि क्या आप विश्वास मत प्रस्ताव चाहते हैं? इस बात का जिक्र आपके पत्र में नहीं है, लेकिन मीडिया में आप ऐसा ही बोल रहे हैं। साथ ही पूछा कि क्या आप सत्र बुलाने के लिए 21 दिन का नोटिस देने पर विचार कर सकते हैं?

Next Story
Share it
Top