Top
undefined
Breaking

अरेंज्ड मैरिज को छोड़ लव मैरिज के पीछे भाग रहे युवा

अरेंज्ड मैरिज को छोड़ लव मैरिज के पीछे भाग रहे युवा

लव मैरिज बेहतर है या अरेंज्ड मैरिज खैर, दोनों तरह के अपने तर्क हैं। जो लोग सोचते हैं कि लव मैरिज बेहतर है, वे तर्क देते हैं कि पहले से ही जीवनसाथी एक-दूसरे को अच्छी तरह से जानते हैं। वहीं, अरेंज्ड मैरिज वालों का कहना है कि जोड़ों को एक-दूसरे से सच्चा प्यार होना चाहिए और एक-दूसरे की पसंद व नापसंद की सराहना करें। हालांकि, भारतीय समाज में दोनों ही शादियों का अपना-अपना महत्व है।

अरेंज्ड मैरिज भारतीय समाज का एक अभिन्न अंग रहा है। भारत में लगभग 90% विवाहों का आयोजन आज भी मां-बाप की सूझबूझ से किया जाता है। जबकि लव मैरिज में पैरेंट्स की रजामंदी हो ऐसा जरूरी नहीं हैं। वास्तव में, साथी चुनने के लिए सबसे अच्छे तरीके के बारे में एक निरंतर बहस चल रही है। लेकिन कभी आपने सोचा है कि आज के समय में ज्यादातर युवा love मैरिज को ही बेस्ट क्यों मानते हैं क्यों आज के युवा पढ़ लिखकर खुद अपने जीवन साथी का चुनाव करना पसंद करते हैं अरेंज्ड मैरिज से जुड़ी इन बातों को सुनकर, मन में भी नहीं आएगा Love मैरिज का ख्याल।

अगर आपके मन में भी ऐसे ही कुछ सवाल हैं तो आज हम आपको बताएंगे क्यों यंग जेनरेशन का झुकाव लव मैरिज की तरफ बढ़ता जा रहा है।

* एक-दूसरे के साथ अपनी ज़िंदगी साझा करने के लिए आने वाले दो लोग पहले से एक-दूसरे की पसंद-नापसंद के बारे में अच्छे से जानते हैं। ऐसे में उन्हें शादी के बाद एडजस्ट करने में ज्यादा परेशानी नहीं आती।

* अरेंज्ड मैरिज में वह सिचुएशन बहुत अधिक अजीब हो जाती है जब दो अंजान लोगों को यूं एक साथ बिस्तर साझा करना होता है। यही नहीं, बिना किसी खास जान-पहचान के अंतरंग होना भी इस रिश्ते की एक बुरी बात में से एक है, क्योंकि वे दोनों ही सामाजिक रूप से बाध्य हैं। लेकिन लव मैरिज में कपल्स पहले से ही एक-दूसरे के साथ एक खास बांड शेयर करते हैं, तो ऐसे में उन्हें अंतरंग संबंध बनाने में किसी तरह की हिचकिचाहट नहीं होती।

* हर बार ऐसा जरूरी नहीं है कि आपको अरेंज्ड मैरिज में आपको अपनी पसंद का पार्टनर मिले। यही नहीं, अगर परिवार के बढ़ते दबाव के कारण उस व्यक्ति के साथ शादी करने के लिए राजी हो भी जाते हैं तो आने वाले समय में यह आपके लिए नई मुसीबत खड़ा करेगा। हालांकि, लव मैरिज में पार्टनर एक-दूसरे की पसंद के होते हैं। जब ऐश्वर्या राय बच्चन ने कहा था कि संयुक्त परिवार में रहना इतना भी बुरा नहीं है, जानें कैसे जॉइंट फैमिली से आती हैं जिंदगी में बहार

* 'बिग फैट इंडियन वेडिंग' इस बात का एक प्रमाण है कि कैसे माता-पिता केवल इस विचार के कारण अपने आप को आर्थिक रूप से कंगाल कर लेते हैं कि एक भव्य शादी उनके बच्चे के ससुराल वालों को खुश करेगी। हालांकि, इसके बावजूद भी इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि शादी में ओवरस्पीडिंग खुशियां आएंगी भी या नहीं, लेकिन लव मैरिज में पार्टनर के पेरेंट्स भले ही खुश न हों, लेकिन कपल हर हाल में एक-दूसरे का साथ देता है।

Next Story
Share it
Top