Top
undefined

सीएएः आजमगढ़ में 'शाहीन बाग' बनाने का प्रयास .. चले लाठी-पत्थर, आंसू गैस गोले

सीएएः आजमगढ़ में शाहीन बाग बनाने का प्रयास .. चले लाठी-पत्थर, आंसू गैस गोले
X

आजमगढ़. उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले के बिलरियागंज थाना क्षेत्र के जौहर अली पार्क में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान आधी रात से शुरू हुआ बवाल बुधवार को भी जारी रहा। आजमगढ़ को सीएए विरोधियों का अखाड़ा बनाने से बचाने के लिए पुलिस को लाठी का सहारा लेना पड़ा। इस दौरान जवाब में प्रदर्शनकारियों के भी पथराव करने की खबरे हैं।

इस दौरान पुलिस के कई वाहन क्षतिग्रस्त हो गए। महिलाओं को जबरन धरना प्रदर्शन के लिए जौहर अली पार्क में धकेलने के आरोप में एक महिला समेत 18 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया, साथ ही पार्क को भी खाली करा दिया। सीएए विरोधियों की गिरफ्तारी के खिलाफ जब शिब्ली कॉलेज के छात्र प्रदर्शन करने सड़क पर उतरे तो पुलिस ने उनको लाठी भांजकर खदेड़ दिया।

बता दें कि सीएए के खिलाफ मंगलवार देर रात प्रदर्शनकारी महिलाओं की संख्या दो सौ से भी ज्यादा हो गई। पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने प्रदर्शनकारी महिलाओं को समझाने का काफी प्रयास किया लेकिन वह धरना समाप्त करने को तैयार नहीं हुईं। आधी रात को करीब एक बजे पुलिस और प्रशासन द्वारा प्रदर्शन को समाप्त करने के लिए पार्क में पानी छोड़ने का निर्णय लिया गया। कुछ देर बाद जफर अली पार्क में पानी छोड़ दिया गया जिसके बाद महिलाओं द्वारा सड़क पर आकर प्रदर्शन शुरू किया गया।

सुबह खाली कराया पार्क

काफी मशक्कत के बाद किसी तरह पुलिस ने अलसुबह पार्क को खाली करा लिया और एक धर्मगुरु समेत लगभग एक दर्जन से भी ज्यादा लोगों को हिरासत में लेकर पुलिस लाइन पहुंच गई। गिरफ्तार लोगों में राष्ट्रीय उलेमा काउंसिल के राष्ट्रीय महासचिव मौलाना ताहिर मदनी भी हैं। इस दौरान पुलिस ने बिलरियागंज कस्बे को छावनी में तब्दील करते हुए पूरे कस्बे में फ्लैग मार्च शुरू कर दिया।

वहीं धर्मगुरु समेत एक दर्जन से ज्यादा लोगों को उठाए जाने के बाद मुस्लिम नेता और प्रदर्शनकारी भड़क गए। इस बीच प्रदर्शनकारियों का आरोप था कि पुलिस ने उनके साथ अभद्र व्यवहार और लाठीचार्ज किया, पत्थर चलाए और आंसू गैस के गोले भी छोड़े। वहीं, पुलिस का कहना था कि प्रदर्शनकारियों द्वारा पुलिस पर पथराव किया गया जिसके बाद पुलिस ने बल प्रयोग किया। राष्ट्रीय उलेमा काउंसिल के प्रदेश अध्यक्ष नुरुल हुदा अंसारी का आरोप है कि पुलिस ने जौहर पार्क में प्रदर्शन कर रही महिलाओं के साथ अभद्र व्यवहार किया।

18 लोग गिरफ्तार

एसपी ट्रैफिक मोहम्मद तारिक ने कि बरियातू थाना क्षेत्र के जौहर पार्क में प्रदर्शन के बाद जब पुलिस ने 18 लोगों को गिरफ्तार किया है। आजमगढ़ में हुए इस पूरे प्रकरण पर जिलाधिकारी आजमगढ़ नागेंद्र प्रताप सिंह का कहना था कि प्रदर्शनकारियों को कई बार समझाने की कोशिश की गई। कुछ महिलाएं वापस भी जा रही थीं लेकिन कुछ अराजक तत्वों द्वारा बार-बार उन्हें भड़काया जा रहा था। इस बीच कुछ अराजकतत्वों ने पुलिस पर पथराव भी किया।

जिलाधिकारी आजमगढ़ नगेंद्र प्रताप सिंह का कहना था कि पत्थरबाजी का जवाब देने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और इस दौरान 18 लोगों को पुलिस लाइन भी गिरफ्तार करके लाई है। जिलाधिकारी आजमगढ़ ने भी यह स्वीकार किया है कि इस घटना में राष्ट्रीय उलेमा काउंसिल की भूमिका काफी सक्रिय रही है।

Next Story
Share it
Top