Top
undefined

कानपुर में रो रहे तब्लीगी जमाती, जिन पर थूका था अब उन्हीं से गुहार - हमें बचा लो

कानपुर में रो रहे तब्लीगी जमाती, जिन पर थूका था अब उन्हीं से गुहार - हमें बचा लो
X

कानपुर. अब जमातियों को अपनी जान जाने का डर सताने लगा है। कानपुर के हैलट अस्पताल के कोविड-19 वार्ड में भर्ती तीन जमातियों को अपनों की याद सताने लगी है। वे बुधवार को बिलखकर रोने लगे। पैरा मेडिकल स्टॉफ उन्हें सांत्वना देकर शांत कराया। डॉक्टरों पर थूकने वाले जमाती अब जान बचाने की दुहाई कर रहे हैं।

खुद पैरा मेडिकल स्टॉफ से की बात

कानपुर में डाक्टरों के साथ तब्लीगी जमात के कोरोना संक्रमित मरीजों ने बदसलूकी की सारी हदें पार कर दी थीं। इलाज करने वाले डॉक्टरों पर जमाती कभी थूकते तो कभी उनके साथ गाली-गलौच करते थे। लेकिन संक्रमित जमातियों को भी अब डर सताने लगा है। हैलट के कोविड-19 वार्ड में एडमिट तीन जमातियों ने बुधवार को पैरा मेडिकल स्टॉफ से बात की। अपनों को याद उनकी आंखों से आंसू छलक पड़े। पैरामेडिकल स्टॉफ ने उन्हे समझा कर शांत कराया। जल्द ही ठीक होने के लिए कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करने को कहा। जमातियों ने पैरामेडिकल स्टॉफ से कहा- 'परिजन की याद आ रही है। बस आप लोग हमें बचा लो।'

डाक्टरों ने जमातियों को समझाया- जल्द ठीक होने के लिए जो प्रोटोकॉल बताया जाए उसका पालन करें। समय से दी गई दवाओं का खाना पड़ेगा। इसके साथ ही इस संक्रमण से दूसरों को बचाने के लिए जो उपाए सुझाए गए हैं, उसका पालन करना पड़ेगा। जमातियों ने फीवर चार्ट खुद ही भर कर देने की बात मानी है। पैरामेडिकल स्टॉफ ने जमातियों हौसला बढाते हुए जीतकर आने की शुभकामनाएं दी है।

कानपुर में 10 जमाती कोरोना पॉजीटिव

दूसरों राज्यों और जनपदों से 5581 लोग पलायन कर ग्रामीण क्षेत्रों में कानपुर आए हैं। सभी को दवा और खाना और जरूरी चीजों को ध्यान में रखकर इलाज किया जा रहा है। 5065 लोगों को होम क्वारैंटाइन किया गया हैं। अब कानपुर में कारोना संक्रमितों की सख्या 11 हो गई, इनमें 10 जमाती हैं।

जमातियों और उनके सपंर्क में आने वाले 125 लोगों में से 40 खोज निकाला

निमामुद्दीन मरकज में शामिल होने वाले या जमातियों के संपर्क में आने वाले 125 शहर में छिप कर रहे थे। इनकी तलाश में पुलिस की टामों के साथ ही साथ एटीएस को लगाया था। 125 लोगों की लीस्ट संबंधित थानों को सौंप दी गई है। बुधवार को 40 लोगों को खोज निकाला गया है। इनके घरों पर पहुंचकर सत्यापन का काम किया जा रहा है। होम क्वारैंटाइन किया जा रहा है, यदि इनमें लक्षण मिलते हैं तो इन्हे आइसोलेट किया जाएगा।

Next Story
Share it
Top