Top
undefined

कानपुर हत्याकांड: विकास दुबे और उसके गुर्गों की दरिंदगी, घर से घसीटते हुए बाहर ले जाकर कुल्हाड़ी से काटा पैर, बदमाशों ने सीओ के सिर पर गोली मारी

कानपुर हत्याकांड: विकास दुबे और उसके गुर्गों की दरिंदगी, घर से घसीटते हुए बाहर ले जाकर कुल्हाड़ी से काटा पैर, बदमाशों ने सीओ के सिर पर गोली मारी
X

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले के हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे ने अपने साथियों के साथ मिलकर गुरुवार रात को 8 पुलिसकर्मियों की निर्मम हत्या कर दी। इतना ही नहीं शवों के साथ भी दुर्व्यवहार किया गया। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि बदमाशों की गोलियों से खुद को बचाने के लिए सीओ देवेंद्र मिश्रा दीवार फांदकर एक घर के आंगन में कूद गए थे। जिस घर में सीओ कूदे थे वो विकास के मामा का घर था। सीओ का पीछा करते हुए बदमाश घर में घुसे और सीओ के सिर पर कई गोलियां दाग दी, इसके बाद उनके शव को घसीटते हुए बाहर ले गए और कुल्हाड़ी से उनके पैर को काट कर अलग कर दिया। बदमाशों ने पुलिस कर्मियों की हत्या करने के बाद उनके शवों को एक के ऊपर एक पांच शवों को रखा था।

बदमाशों ने पुलिस टीम को संभलने का मौका नहीं दिया

गुरूवार देररात सीओ बिल्हौर देवेंद्र मिश्रा के नेतृत्व में शिवराजपुर, चौबेपुर, बिठूर थाने की फार्स हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के घर पर दबिश देने के लिए गई थी। विकास दुबे ने अपने साथियों के साथ मिलकर पुलिस टीम पर छतों से फायरिंग करना शुरू कर दिया। बदमाशों ने पुलिस कर्मियों को कुछ सोचने समझने का भी मौका नहीं दिया। बदमाश अत्याधुनिक हथियारों से पुलिस पर फायरिंग कर रहे थे। छतों पर छिपे बदमाश पुलिस पर निशाना लगाकर फायरिंग कर रहे थे और दीवारों की आड़ में छिपी पुलिस अंदाजे से फायरिंग कर रही थी।

बदमाशों ने मरने के बाद भी दागी दर्जनों गालियां

बदमाशों से मुठभेड़ के दौरान शिवराजपुर एसओ महेश यादव और मंधना चौकी इंचार्ज अनूप सिंह गंभीर रूप से घायल हो गए। महेश यादव और अनूप सिंह मदद के लिए ग्रामीणों के दरवाजे खटखटा रहे थे,तभी पीछे आए बदमाशों ने दोनों की पीठ पर दर्जनों गोलियां दाग दी। इसके बाद शवों को घसीटते हुए एक जगह इकट्ठा कर के रखते गए। बदमाशों ने क्रूरता की सारी हदे पार कर दी, मृत शरीरों पर पर भी कई राउंड फायरिंग की।

गोली मारने के बाद कुल्हाड़ी से काटा पैर

बदमाशों की फायरिंग में चारो तरफ से घिर चुके सीओ बिल्हौर देवेंद्र सिंह दीवार फांदकर कर एक घर के आंगन में कूद गए। बदकिस्मती से यह घर विकास के मामा प्रेमप्रकाश पांडेय का था। घर में घुसे बदमाशों ने सीओ को पकड़ लिया और उनके सिर पर एक बाद एक कई गोलियां दाग दी। इसके बाद उनके शव को घसीटते हुए बाहर ले गए और कुल्हाड़ी से पैर को शरीर से अलग कर दिया।

बदमाशों ने पुलिस के असलहे लूटे

बदमाशों ने पुलिस की एक एके 47, एक इंसास रायफल और दो पिस्टले लूटी थी। पुलिस से लूटे गए असलहों से भी गोलियां चलाई गईं है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पता चला है कि चार जवानों के शरीर से गोलियां आरपार निकल गई है। सीओ देवेंद्र मिश्रा के सिर और सीने में गोली मारी गई है। मंधना चौकी इंचार्ज अनूप सिंह को सात गोलियां लगी हैं। शिवराजपुर एसओ महेश यादव को पांच गोलियां और सिपाही जितेंद्रपाल के 6 गोलियां लगी है। बाकी पुलिसकर्मियों के चार-चार गोलियां लगी है

Next Story
Share it
Top