Top
undefined

स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप ने कहा- असाध्य रोगों वाले मरीजों को ही अस्पताल में किया जाएगा भर्ती

स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप ने कहा- असाध्य रोगों वाले मरीजों को ही अस्पताल में किया जाएगा भर्ती
X

ललितपुर। उत्तर प्रदेश के चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जय प्रताप सिंह ने कहा कि सरकारी अस्पतालों में असाध्य रोगों से गस्त रोगियों को ही भर्ती किया जाएगा। वहीं, यूपी में कोरोना की डोर-टू-डोर सैंपलिंग कराई जाएगी।

दरअसल, स्वास्थ्य मंत्री गुरुवार को ललितपुर में जिला अस्पताल का निरीक्षण करने पहुंचे थे। कोरोना की टेस्टिंग, इलाज और सर्विलांस की जानकारी लेने के बाद टेस्टिंग बढ़ाने का निर्देश दिया है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोविड की लड़ाई में कितनी टेस्टिंग बढ़ा सकते हैं, इसके लिए हम लोग प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में डेढ़ लाख बेड की व्यवस्था है। कोरोना की लड़ाई में कुछ छोड़ा नहीं है। अनलाॅक होने के बाद स्थिति उत्पन्न हुई है, उसके सामने एंटीजन टेस्टिंग व डोर-टू-डोर सर्वे का करा रहे हैं।

वैक्सीन की चर्चाओं पर लगाया विराम

देश में 15 अगस्त को कोरोना की वैक्सीन आने की चर्चाओं पर गुरुवार को उत्तर प्रदेश के चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जय प्रताप सिंह ने विराम लगा दिया। उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता दिवस को भारत में कोरोना वैक्सीन लांच होने के सम्बन्ध में कोई भी प्रमाणित बयान आईसीएमआर की तरफ से अभी तक नहीं आया है। आईसीएमआर हमारी केन्द्रीय संस्था है। जब तक वह कन्फर्म नहीं करेगा, तब तक कुछ नहीं कह सकते।

लापरवाही से बढ़ रही संक्रमितों की संख्या

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी है। जब हमने लाॅकडाउन खोल दिया तो उसमें काफी लापरवाही हो रही है। जब आदमी बाजार में जाता है तो मास्क नहीं पहनता। सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन नहीं कर रहा, जिसके चलते मरीज बढ़ रहे हैं। झांसी, कानपुर सहित अन्य महानगरों में अलग प्रकार की टेस्टिंग शुरू कराई जा रही है, जिसे एंटीजन टेस्टिंग कहते हैं। उन्होंने कहा कि जांच रिपोर्ट आने में समय लग रहा है, इसके लिए हम अधिकारियों से बात करेंगे, जिससे जांच शीघ्र आ सके।

Next Story
Share it
Top