Top
undefined

सांस लेने में तकलीफ होने पर कानून मंत्री बृजेश पाठक पीजीआई में भर्ती; चार दिनों से होम आइसोलेशन में थे

सांस लेने में तकलीफ होने पर कानून मंत्री बृजेश पाठक पीजीआई में भर्ती; चार दिनों से होम आइसोलेशन में थे
X

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार में कानून मंत्री बृजेश पाठक को सांस लेने में तकलीफ होने पर रविवार सुबह लखनऊ के पीजीआई स्थित कोविड-19 अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। उन्हें यहां आईसीयू में शिफ्ट किया गया है। कानून मंत्री 5 अगस्त को कोरोना संक्रमित मिले थे। जिसके बाद वे होम आइसोलेशन में थे। आईसीयू प्रभारी डॉक्टर देवेंद्र गुप्ता के नेतृत्व में डॉक्टरों की टीम कैबिनेट मंत्री बृजेश पाठक का इलाज कर रही है। उन्हें शनिवार रात की सांस लेने में तकलीफ शुरू हुई थी।

सात दिन पहले कैबिनेट मंत्री कमल रानी की हुई थी मौत

सात दिन पहले बीते रविवार को कैबिनेट मंत्री कमल रानी वरुण की पीजीआई में इलाज के दौरान मौत हो गई थी। वे 18 जुलाई कोरोना से संक्रमित हुई थीं। मंत्री कमल रानी को पहले से डायबिटीज, हाइपरटेंशन और थायराइड से जुड़ी समस्या थी। वहीं, योगी सरकार के मंत्रिमंडल के अब तक पांच मंत्री कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। इससे पहले स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह, खेल मंत्री उपेंद्र तिवारी, कैबिनेट मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह उर्फ मोती सिंह, आयुष मंत्री धर्म सिंह सैनी और होमगार्ड मंत्री चेतन चौहान कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। वहीं, विपक्षी दलों में सपा के एमएलसी और प्रवक्ता सुनील सिंह यादव, विधानसभा में विपक्ष के नेता राम गोविंद चौधरी भी कोरोना पॉजिटिव मिल चुके हैं।

राज्य में अब तक 2028 की हुई मौत

बीते 24 घंटे में प्रदेश में सबसे ज्यादा 4800 मरीज सामने आए। इसके साथ प्रदेश में कुल मरीजों की संख्या 1,18,038 हो गई है, जबकि 47 लोगों के मरने के बाद मृतकों का आंकड़ा 2028 हो गया है। प्रदेश में अब भी 46,177 एक्टिव केस हैं।

Next Story
Share it
Top