Top
undefined

मस्जिद के नाम पर सियासत:अल्पसंख्यक मंत्री मोहसिन रजा ने कहा- देश में बाबर के नाम पर कोई चीज स्वीकार नहीं होगी, मोहम्मद साहब के नाम पर बने मस्जिद

मस्जिद के नाम पर सियासत:अल्पसंख्यक मंत्री मोहसिन रजा ने कहा- देश में बाबर के नाम पर कोई चीज स्वीकार नहीं होगी, मोहम्मद साहब के नाम पर बने मस्जिद
X

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में राम मंदिर का भूमि पूजन होने के बाद अब अयोध्या में सुप्रीम कोर्ट की ओर से मुस्लिम समुदाय को दी गई पांच एकड़ जमीन पर मस्जिद बनने की कवायद शुरू हो गई है। इस बीच अल्पसंख्यक राज्यमंत्री मोहसिन रजा ने सुन्नी बोर्ड को सुझाव दिया है कि अयोध्या में बन रही मस्जिद का नाम अगर रखना है तो मोहम्मद साहब के नाम पर इस मस्जिद को ''मस्जिद ए मोहम्मदी'' नाम दिया जाए।

मोहसिन रजा ने रविवार को अपना एक बयान जारी कर कहा है कि अयोध्या ही नहीं पूरे देश में बाबर के नाम पर कोई भी चीज स्वीकार नहीं होगी। चाहे वह मस्जिद हो या कोई और। क्योंकि, बाबर ने कोई अच्छा काम नहीं किया। बाबर के नाम पर मुसलमानों के 73 फिरके भी एकमत नहीं होंगें।

उन्होंने अपने बयान में यह भी कहा है कि जैसे मर्यादा पुरुषोत्तम राम पुरुषों में उत्तम हैं उसी तरीके से मोहम्मद साहब भी मुसलमानों में महापुरुष हैं और हम सभी उनके नाम पर कलमा पढ़ते हैं। उन्हें हिंदुओं में भी उतना ही सम्मान प्राप्त है। मानवता व इंसानियत के लिए वे हर जगह जाने जाते हैं। लिहाजा अगर इस मस्जिद का नाम ही रखना है तो इसका नाम ''मस्जिद ए मोहम्मदी'' रखा जाए। इससे पूरी दुनिया में एक़ बेहतर संदेश जाएगा और सभी इसे स्वीकार भी करेंगे।

सुप्रीम कोर्ट ने मस्जिद के लिए जमीन देने का निर्देश दिया था

उच्चतम न्यायालय ने 9 नवंबर 2019 को अपने फैसले में अयोध्या के विवादित स्थल पर राम मंदिर का निर्माण कराने और उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को मस्जिद के निर्माण के लिए अयोध्या में किसी प्रमुख स्थान पर 5 एकड़ जमीन देने का आदेश जारी किया था। बोर्ड ने इस जमीन पर मस्जिद के अलावा इंडो इस्लामिक रिसर्च सेंटर, एक अस्पताल, कम्युनिटी किचन, पुस्तकालय और म्यूजियम बनाने का फैसला किया था। इसके लिए इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन नामक ट्रस्ट बनाया गया है जो मस्जिद तथा अन्य इमारतों का निर्माण कराएगा। इसके लिए मुख्यतः जन सहयोग से धन जुटाया जाएगा।

Next Story
Share it
Top