Top
undefined

गलत बयान देकर पुलिस को करता रहा विवेक तिवारी परेशान, जांच में मिले कई सबूत, आरोपी को रिमांड पर लेने की तैयारी

गलत बयान देकर पुलिस को करता रहा विवेक तिवारी परेशान, जांच में मिले कई सबूत, आरोपी को रिमांड पर लेने की तैयारी
X

आगरा। आगरा के एसएन मेडिकल कॉलेज में तैनात जूनियर डाॅक्टर योगिता गौतम के मौत के आरोपी डॉक्टर विवेक तिवारी को आगरा पुलिस रिमांड पर लेने की तैयारी कर रही है। पुलिस हत्या में प्रयोग की गई रिवॉल्वर , खून से सने कपड़ों की बरामदगी के प्रयास कर रही है। पुलिस आरोपी से हत्याकांड से जुड़े कई और सवाल के जवाब पूछेगी। फोरेंसिक टीम को आरोपी की कार से खून के धब्बे भी मिले हैं।

सजा दिलाने का पूरा प्रयास कर रही पुलिस

सीओ चमन सिंह चावड़ा का कहना है कि पुलिस ने ऑडियो, बाल, खून के धब्बे जैसे तमाम सबूत इकट्ठा कर लिए हैं और आरोपी की रिमांड के बाद बाकी के सबूत भी पुलिस के पास आ जाएंगे। जघन्य हत्याकांड को अंजाम देने वाले डाक्टर विवेक को पुलिस सख्त सजा दिलाने का पूरा प्रयास कर रही है।

गलत बयान देकर किया था परेशान

आरोपी विवेक उरई में चिकित्सा अधिकारी था। होम कोरेन्टीन होने के बाद उसने घटना को अंजाम दिया था। पुलिस उससे मरीज बनकर मिली थी और चुपचाप हिरासत में लेकर आई थी। पुलिस हिरासत में उसने पुलिस को गलत बयान देकर खासा परेशान कर दिया था। इसके बाद पुलिस ने अपने तरीके से जांच शुरू की तो आरोपी विवेक के खिलाफ सबूत मिलते चले गए।

नई कार लेकर योगिता से मिलने आया था

पूुलिस ने बताया कि विवेक के पास से मोबाइल और कार मिली है। विवेक जानबूझकर अपनी नई कार लेकर योगिता से मिलने आया था ताकि कोई उसे पहचान न पाए। पुलिस के अनुसार योगिता के एससी होने के कारण उसने पहले उससे दूरी बना ली थी। वो चाहता था कि पहले उसकी बहनों की शादी हो जाये तब वो योगिता से शादी करे। योगिता और विवेक में सम्बन्ध मधुर नहीं थे।

रिकार्डिंग डिलीट कर रखी थी

विवेक ने मोबाइल की काॅल रिकार्डिंग डिलीट कर रखी थी पर फोरेंसिक टीम ने उसे रिकवर कर लिया है। उसके मोबाइल से मिली चार ऑडियो क्लिप में उनके बीच झगड़ा होने और योगिता के घर से उसे लेने की बात के सबूत टीम को मिल चुकी है। आरोपी विवेक ने कार को धो दिया था पर फोरेंसिक टीम ने कार से बाल और खून के धब्बे निकाल लिए हैं।

कपड़े और रिवॉल्वर​​​​​​​ नहीं हुए बरामद

योगिता और विवेक के बीच हाथापाई हुई थी इस बात का सबूत योगिता के शव के हाथों में मिले बाल और कार में मिले बालों के डीएनए टेस्ट से होगी। कार पर लगे खून के धब्बे और योगिता के खून की भी डीएनए मैच करवाई जाएगी। पुलिस काे अभी तक खून सने कपड़े और रिवॉल्वर बरामद नहीं हुए है। पुलिस उसे भी बरामद करने का प्रयास कर रही है।

ये है मामला

18 अगस्त की शाम आगरा के एसएन मेडिकल कालेज में तैनात जूनियर डाक्टर योगिता गौतम की उसके प्रेमी डॉ विवेक तिवारी ने नृशंस हत्या कर शव को बमरौली कटारा क्षेत्र में फेंक दिया था। आरोपी डॉ विवेक ने अपनी महिला मित्र का पहले गला दबाया था और फिर उसको तीन गोलियां मारी थीं। इसके बाद भी मौत की पुष्टि करने के लिए उसने योगिता की लाश पर चाकू से प्रहार किए थे। इसके बाद आरोपी उसके शव को जलाने का प्रयास कर रहा था पर ग्रामीणों की आवाज सुनकर वह वहां से भाग गया था। मृतका के परिजनों ने डॉ विवेक पर हत्या का आरोप लगाया था।

Next Story
Share it
Top