Top
undefined

महोबा में क्रशर कारोबारी की हत्या का मामला:एसआईटी ने पूर्व विधायक समेत चार लोगों से की पूछताछ

महोबा में क्रशर कारोबारी की हत्या का मामला:एसआईटी ने पूर्व विधायक समेत चार लोगों से की पूछताछ
X

महोबा। उत्तर प्रदेश के महोबा जिले में क्रशर कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी की हत्या के मामले में एसआईटी (स्पेशल इन्वेस्टिगेटिव टीम) जांच कर रही है। शुक्रवार को एसआईटी अध्यक्ष और वाराणसी जोन के आईजी विजय सिंह मीणा ने कई संदिग्धों से पूछताछ की है। वहीं, चरखारी से भाजपा विधायक ब्रजभूषण राजपूत ने एसआईटी को डीएम के खिलाफ कुछ साक्ष्य सौंपे हैं। इस दौरान विधायक राजपूत ने दावा किया कि जल्द ही आरोपी आईपीएस मणिलाल पाटीदार को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

पुलिस लाइन सभागार में विजय सिंह मीणा के नेतृत्व में डीआईजी शलभ माथुर और आईपीएस अशोक त्रिपाठी ने पूर्व विधायक अरिमर्दन सिंह के अलावा मृतक व्यापारी इन्द्रकांत के पार्टनर बल्लू महाराज और पुरुषोत्तम से बारी-बारी से पूछताछ की है। दरअसल, इंद्रकांत की मौत के बाद उनके और पूर्व विधायक अरिमर्दन सिंह के बीच बातचीत का ऑडियो वायरल हुआ था। इसमें इंद्रकांत ने तत्कालीन एसपी मणिलाल द्वारा छह लाख रुपए की डिमांड का जिक्र था। वहीं, विस्फोटक व्यापारी बीडी महाराज और व्यापारी इंद्रकांत के बीच बातचीत का भी ऑडियो सामने आया था। अब एसआईटी इस बात का पता लगाने में जुटी है कि ऑडियो में कितनी सच्चाई है।

वहीं, चरखारी विधायक बृजभूषण राजपूत पुलिस लाइन पहुंचे और एसआईटी टीम को डीएम के खिलाफ सबूत सौंपे। विधायक ने कहा कि चाहे गेहूं खरीद हो या चकबंदी। हर जगह धांधली हुई है।

सपा ने मृतक परिवार से की मुलाकात

शुक्रवार को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव एवं पूर्व मंत्री अभिषेक मिश्रा ने कारोबारी इंद्रकांत के परिवार के बीच पहुंचकर अपनी संवेदना जताई। कहा कि परिवार की सत्ता से न्याय की लड़ाई में समाजवादी साथ खड़े रहेंगे। मांग की कि हत्यारोपी एसपी को सरकार जल्द से जल्द गिरफ्तार करे। वहीं, आप सांसद संजय सिंह ने योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि, योगीराज में महोबा के डीएम, एसपी ने व्यापारी इन्द्रकांत त्रिपाठी से रंगदारी मांगी, ना दे पाने पर उनकी हत्या करवा दी। ये हत्यारे देशद्रोही हैं मगर योगी जी कह रहे, मैं देशद्रोही हूं। उन्होंने मुझे देशद्रोही बना दिया क्योंकि हमने आपके वास्तविक चेहरे को सबके सामने ला दिया।

मौत से पहले व्यापारी ने वीडियो वायरल कर जताया था जान का खतरा

कबरई के रहने वाले व्यापारी इंद्रकांत ने सात सितंबर को वीडियो वायरल कर कहा था कि उनकी जान को खतरा है और अगर उन्हें कुछ होता है तो महोबा के तत्कालीन पुलिस अधीक्षक मणिलाल पाटीदार ही जिम्मेदार होंगे। उन्हें लगातार मारने की धमकियां मिल रही थीं। अगली सुबह 8 सितंबर को इंद्रकांत अपनी कार में घायल मिले थे। 13 सितंबर को कानपुर के रीजेंसी अस्पताल में इलाज के दौरान इंद्रकांत की मौत हो गई। इस प्रकरण में पहले मणिलाल पर हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज किया गया था। लेकिन मौत के बाद हत्या में बदल दिया गया। वहीं, सीएम योगी ने प्रकरण की जांच के लिए एसआईटी गठित की थी। एक सप्ताह के भीतर रिपोर्ट तलब की गई है।

Next Story
Share it
Top