Top
undefined

सीएम योगी ने कहा- अपराधियों पर बुलडोजर चलता है तो दर्द सपा को होता है, लव जिहाद पर जल्द अंकुश लगाएंगे

सीएम योगी ने कहा- अपराधियों पर बुलडोजर चलता है तो दर्द सपा को होता है, लव जिहाद पर जल्द अंकुश लगाएंगे
X

देवरिया। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को देवरिया में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि जल्द ही सरकार लव जिहाद को रोकने के लिए ठोस कदम उठाने जा रही है। दरअसल, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक दिन पहले ही लव जिहाद को लेकर एक अहम आदेश में कहा था कि सिर्फ शादी के लिए धर्म परिवर्तन को वैध नहीं ठहराया जा सकता है।

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ आज देवरिया में चुनावी जनसभा को संबोधित करने पहुंचे थे। जहां उन्होंने देवरिया सदर विधानसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव के भाजपा से उम्मीदवार डॉक्टर सत्य प्रकाश मणि त्रिपाठी के लिए वोट की अपील की। मुख्यमंत्री ने अपने भाषण के दौरान समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पर हमला बोला कहा कि सरकार अपराधियों के खिलाफ़ बुलडोजर व जब्ती की कार्रवाई करती है तो सपा के अध्यक्ष को बुरा लगता है।

यूपी में दंगे कराना चाहती है सपा

उन्होंने कहा कि सपा दंगे करवाना चाहती है लेकिन सरकार होने नही देगी। मिशन शक्ति की जो शुरुआत हुई है वह दीवाली बाद ऑपरेशन शक्ति में बदली जाएगी और अपराधियों की तरह इनका भी राम नाम सत्य होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्षी पूछते थे की राम मन्दिर कब बनेगा लेकिन अब तो हमने शिलान्यास कर दिया है। उन्होंने कहा कि कल हाईकोर्ट का एक फैसला आया है की शादी के लिए धर्म परिवर्तन जरूरी नही है। सीएम ने भाषण के दौरान कहा कि सरकार लव जिहाद पर भी जल्द अंकुश लगाने जा रही है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने शुक्रवार को दिया था फैसला

उत्तर प्रदेश में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने धर्म परिवर्तन कर शादी करने के एक मामले में शुक्रवार को बड़ा फैसला सुनाया। हाईकोर्ट ने कहा कि केवल शादी के लिए धर्म परिवर्तन वैध नहीं है। हाई कोर्ट ने फैसला प्रियांशी की याचिका पर सुनाया, जिसने शादी से एक महीने पहले मुस्लिम धर्म छोड़कर हिंदू धर्म अपना लिया था।

कोर्ट ने याचिकाकर्ता से कहा कि वो मजिस्ट्रेट के सामने अपना बयान दर्ज करवा सकती हैं। प्रियांशी का शादी से पहले नाम समरीन था। उसने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की थी कि मायके पक्ष के लोग वैवाहिक जीवन में दखल दे रहे हैं और इस पर रोक लगाई जाए।

जस्टिस एमसी त्रिपाठी ने कहा- एक याचिकाकर्ता मुस्लिम और दूसरा हिंदू है। लड़की ने 29 जून 2020 को हिन्दू धर्म स्वीकार किया और एक महीने बाद 31 जुलाई को विवाह कर लिया। रिकॉर्ड से साफ है कि शादी करने के लिए धर्म परिवर्तन किया गया है।

Next Story
Share it
Top