Top
undefined

प्रियंका गांधी के लेटर के तुरंत बाद एक्शन में आए योगी, 31661 पदों पर शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया एक सप्ताह में पूरी करने के निर्देश

प्रियंका गांधी के लेटर के तुरंत बाद एक्शन में आए योगी, 31661 पदों पर शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया एक सप्ताह में पूरी करने के निर्देश
X

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में 69000 शिक्षकों की भर्ती के मामले में बड़ा कदम बढ़ाया है। सरकार 31661 पदों पर एक हफ्ते में भर्ती प्रक्रिया पूरी करेगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के बेसिक शिक्षा विभाग में 31,661 सहायक अध्यापकों की भर्ती प्रक्रिया को एक सप्ताह में पूरा करने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार युवाओं को नौकरी सहित रोजगार के पर्याप्त अवसर उपलब्ध कराने के लिए कृतसंकल्पित है। हालांकि सरकार का फैसला आने से कुछ घंटे पहले ही कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने बेरोजगारी को लेकर सीएम योगी को पत्र लिखा था।

राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि बेसिक शिक्षा विभाग ने सहायक अध्यापकों के 69,000 रिक्त पदों पर भर्ती के लिए 06 जनवरी, 2019 को टीटीई की परीक्षा कराई गई थी। दरअसल, प्रदेश में शिक्षकों की भर्ती का मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है, इसमें भी सुप्रीम कोर्ट ने 31661 पदों पर भर्ती की छूट दी है। योगी आदित्यनाथ सरकार अब उन्हीं 31,661 पदों पर भर्ती की प्रक्रिया को एक सप्ताह में पूरी करेगी।

यह है मामला

दरअसल यूपी सरकार ने 69000 सहायक शिक्षकों के पदों पर भर्तियां निकालीं थीं, लेकिन शिक्षामित्रों की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने 69,000 सीटों में 37,339 पदों की भर्ती पर सरकार को रोक लगाने के आदेश दिए थे। बाकी बचे हुए 31,661 पदों पर भर्ती करने पर कोई रोक नहीं थी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बेसिक शिक्षा परिषद को आदेश दिया है कि सुप्रीम कोर्ट के 21 मई 2020 को दिए फैसले के अनुसार ही 31,661 शिक्षकों की नियुक्तियां एक हफ्ते के भीतर संपन्न की जाएं।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने शनिवार को योगी को लिखा था पत्र

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सीएम योगी को बेरोजगारी पर लेटर लिख प्रदेश के युवाओं के दर्द के बारे में बताया है। उन्होंने लेटर में लिखा है कि बेरोजगार युवा कोर्ट कचहरी के चक्कर लगाने को मजबूर हैं। उन्होंने पत्र में लिखा- मैं बेरोजगार युवाओं से बात करने के बाद उनकी समस्याओं के बारे में आपको पत्र लिख रही हूं। युवा मजबूरी में कोर्ट-कचहरी के चक्कर काट रहे हैं। इनकी कहानी सुनकर बहुत दुख हुआ। मैं समझ नहीं पा रही कि सरकार ने इनके प्रति इतना निर्मम स्वभाव क्यों बनाया हुआ है जबकि यही यूपी की आने वाली पीढ़ी है।

Next Story
Share it
Top