Top
undefined

हज यात्रा पर रोक हटी: मेहरम के बगैर बड़ी संख्या में हज जा सकेंगी मुस्लिम महिलाएं, 500 सीटें रिजर्व रखी गई

हज यात्रा पर रोक हटी: मेहरम के बगैर बड़ी संख्या में हज जा सकेंगी मुस्लिम महिलाएं, 500 सीटें रिजर्व रखी गई
X

लखनऊ। हज कमेटी आफ इंडिया ने गुरुवार देर शाम 'हज एक्शन प्लान–2021' की घोषणा कर दी। हालांकि कोविड-19 के चलते इस बार हज यात्रा के लिए कुछ बदलाव किए गए हैं। इस बार सिर्फ 18 से 65 साल के लोगों को ही हज की अनुमति होगी। हज आवेदन फार्म 7 नवंबर से मिलेंगे। फार्म जमा करने की अंतिम तिथि 10 दिसंबर है। बिना मेहरम (पुरुष रिश्तेदार) के हज जाने वाली महिलाएं चार महिलाओं के बजाय सिर्फ 3-3 का ग्रुप बनाकर आवेदन कर सकेंगी। इन महिलाओं के लिए 500 सीटें आरक्षित की गयी हैं। अगर आवेदन फार्म कोटे से अधिक जमा हुए तो जनवरी 2021 में कुराअंदाजी (लाटरी) निकालकर यात्रियों का चयन किया जाएगा। इस बार पीएम के संसदीय क्षेत्र से हज के लिए उड़ान नहीं भरी जाएगी।

खर्च की पहली किस्त बढ़ी, एक लाख 50 हजार जमा करना होगा

इस साल लाटरी में चयनित हज यात्रियों को हज खर्च की पहली किस्त 81 हजार रुपए के बजाय एक लाख 50 हजार जमा करना होगा। एक मार्च 2021 तक और आखिरी किस्त जमा करनी होगी। हज कमेटी ने अभी हज खर्च की पहली किस्त और कुल हज खर्च की घोषणा नहीं की है। हज यात्रियों की सऊदी अरब रवानगी 26 जून से शुरू होगी और 13 जुलाई को आखिरी उड़ान जाएगी। इस साल 30 जुलाई को हज होगा। हज यात्रियों की वापसी 14 अगस्त से शुरू होगी। हज कमेटी आफ इंडिया ने सभी राज्य हज कमेटियों को निर्देश जारी कर दिए हैं। मास्टर ट्रेनरों को प्रशिक्षण काम फरवरी 2021 में होगा और 10 दिसंबर तक ऑनलाइन फार्म फॉर्म भरे जाएंगे।

सिर्फ 10 उड़़ान स्थलों से हज जाने की अनुमति

हज कमेटी ने कोविड-19 के चलते अभी बिल्डिंग सिलेक्शन टीम व बिल्डिंग सिलेक्शन कमेटियां विदेश मंत्रालय भारत सरकार‚ हज कमेटी आफ इंडिया और काउंसुलेट जनरल आफ इंडिया जेद्दा के साथ हज यात्रियों के मक्का व मदीना में ठहरने के लिए होटलों/भवनों का चयन करने की तिथि की घोषणा नहीं की है। वहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी से हज जाने की सुविधा खत्म कर दी गयी है। इस बार हज उड़ान, अहमदाबाद‚ बेंगलुरू‚ कोच्चि‚ दिल्ली‚ गुवाहाटी, हैदराबाद, कोलकाता‚ लखनऊ‚ मुंबई और श्रीनगर से जाएंगी।

Next Story
Share it
Top