Top
undefined

जस्टिस शशिकांत अग्रवाल ने विकास दुबे के गांव का दौरा किया, 8 पुलिसवालों की हत्या के बारे में लोगों से ली जानकारी

जस्टिस शशिकांत अग्रवाल ने विकास दुबे के गांव का दौरा किया, 8 पुलिसवालों की हत्या के बारे में लोगों से ली जानकारी
X

कानपुर। हाईकोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस शशिकांत अग्रवाल ने कानपुर शूटआउट की जांच शुरू कर दी है। सोमवार को वे गैंगस्टर विकास दुबे के गांव बिकरू पहुंचे। उन्होंने डीएम ब्रह्मदेव तिवारी और एसएसपी दिनेश कुमार के साथ गांव वालों से बात की। जस्टिस शशिकांत ने बिकरु गांव में विकास दुबे के घर के मलबे को देखा। उन जगहों पर गए, जहां 8 पुलिसवालों की हत्या की गई थी। अधिकारियों ने वे घर भी दिखाए जहां से 2 जुलाई की रात फायरिंग हुई थी। जस्टिस शशिकांत ने गांव वालों से बातचीत भी की।

उनके हाथ में एक डायरी थी, जिसमें से शूटआउट से जुड़ी कुछ जानकारियांं पढ़ रहे थे। डीएम और एसपी उनके सवालों का जवाब दे रहे थे। योगी सरकार ने कानपुर शूटआउट से लेकर विकास दुबे और दूसरे अपराधियों के एनकाउंटर की जांच के लिए जस्टिस शशिकांत अग्रवाल की अगुवाई में कमीशन बनाया है। अग्रवाल 2 महीने में जांच पूरी कर रिपोर्ट देंगे। इस आयोग का मुख्यालय कानपुर है।

प्रियंका गांधी ने सुप्रीम कोर्ट के जज से जांच कराने की मांग की थी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कानपुर शूटआउट की जांच सुप्रीम कोर्ट के जज से जांच कराने की मांग की थी। उन्होंने योगी सरकार पर आरोप लगाया था कि उत्तर प्रदेश को अपराध प्रदेश में बदल दिया है। विकास दुबे जैसे अपराधी फल-फूल रहे हैं। पूरा प्रदेश इस बात को जानता है कि इन्हें राजनीतिक शह दी जाती है। विकास दुबे जैसे अपराधी की परवरिश जिन्होंने की, उनकी असलियत सामने आनी चाहिए। जब तक अपराधियों और राजनेताओं के बीच साठगांठ का पता नहीं चलेगा, तब तक न्याय नहीं होगा।

कानपुर के बिकरू गांव में 2 जुलाई को हुआ था शूटआउट

कानपुर के चौबेपुर थाना इलाके के बिकरू गांव में गैंगस्टर विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस टीम पर बदमाशों ने फायरिंग कर दी। हमले में 8 पुलिसवाले मारे गए। घटना के 7 दिन बाद यानी 10 जुलाई को यूपी एसटीएफ ने विकास दुबे का एनकाउंटर कर दिया।

Next Story
Share it
Top