Top
undefined

बीजेपी सांसद हेमा मालिनी ने किसान आंदोलन पर सुप्रीम कोर्ट की रोक को बताया अच्छा कदम

बीजेपी सांसद हेमा मालिनी ने किसान आंदोलन पर सुप्रीम कोर्ट की रोक को बताया अच्छा कदम
X

मथुरा। मथुरा से भारतीय जनता पार्टी की सांसद हेमा मालिनी मंगलवार को 10 माह बाद अपने संसदीय क्षेत्र पहुंचीं। इस दौरान उन्होंने इतने दिनों से अपनी मथुरा से दूरी का कारण भी बताया। कहा कि कोरोना के चलते हालात खराब थे। इसलिए यहां नहीं आ सकी। कोरोना अभी भी खत्म नहीं हुआ है। लेकिन, वैक्सीन का इंतजार खत्म हो गया है। इस मौके पर उन्होंने केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों को लेकर जारी किसान आंदोलन पर सुप्रीम कोर्ट से रोक लगाए जाने को बेहतर कदम कहा।

हमसे ब्रज के किसी किसान ने नहीं की शिकायत

हेमा मालिनी ने विपक्ष पर जनता को भ्रमित करने का आरोप लगाया। तीनों नए कानूनों में कोई कमी नहीं है। लेकिन विपक्ष के बहकावे में आकर लोग आंदोलन कर रहे हैं। अब सुप्रीम कोर्ट ने आंदोलन पर रोक लगा दी है। यह अदालत का एक बेहतर कदम है। मुद्दा शांत होने के लिए यह होना चाहिए था। हमारी सरकार ने किसानों से उनकी समस्या का समाधान निकालने के लिए हर संभव प्रयास किया। हमसे ब्रज के किसी किसान ने हमसे कोई शिकायत नहीं की।

विपक्ष का काम सरकार के हर काम पर उल्टा बोलना

कोरोना वैक्सीन पर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव व बिहार में लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव के बयान पर हेमा मालिनी ने कहा कि विपक्ष का काम हमारी सरकार के हर अच्छे काम पर उल्टा बोलना है। हमारी सरकार विपक्ष की परवाह किए बिना हर मुद्दे पर अड़ के डट के खड़ी है।

मुझे भी वैक्सीन के लिए अपने नंबर का इंतजार

हेमा मालिनी ने कहा कि मैं बीते 10 माह से मथुरा नहीं आ सकी। इस पर कुछ लोगों ने सोशल मीडिया के जरिए कटाक्ष भी किया। सच बताऊं तो मैं यहां आने के लिए तड़प रही थी। लेकिन मजबूरी थी, जो यहां नहीं पाई। उन लोगों को समझना चाहिए कि कोरोना की वजह से कितनी दिक्कत थी? अब मुझे भी वैक्सीन का इंतजार है कि मेरा नंबर कब आएगा? ताकि मुझे भी वैक्सीन लगे और वह खुलेआम घूम सकूं।

Next Story
Share it