Top
undefined

अखिलेश यादव ने किया 1 करोड़ देने का ऐलान, कोरोना से लड़ने के लिए सांसद कर सकेंगे फंड का इस्तेमाल,

भारत सरकार ने सांसद निधि के फंड में बदलाव किया है, अब सभी सांसद कोरोना से लड़ाई में फंड का इस्तेमाल कर सकेंगे. कांग्रेस सांसद विवेक तन्खा ने इस फैसले के लिए सरकार का शुक्रिया किया.

अखिलेश यादव ने किया 1 करोड़ देने का ऐलान, कोरोना से लड़ने के लिए सांसद कर सकेंगे फंड का इस्तेमाल,
X

नई दिल्ली /देश इस वक्त कोरोना वायरस की महामारी का सामना कर रहा है. केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन हर कोई अपनी तरफ से लोगों की मदद करने की कोशिश कर रहा है. इसी को देखते हुए अब सांसद निधि फंड के नियमों में भी बदलाव कर दिया गया है. अब सांसद और विधायक अपने फंड का हिस्सा कोरोना के खिलाफ लड़ाई में उपयोग कर सकेंगे.

कांग्रेस के राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने बुधवार सुबह ट्वीट किया कि केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शुक्रिया, सांसद निधि फंड के तहत अब सभी सांसद कोरोना के खिलाफ लड़ाई में राशि दे सकेंगे. इस लड़ाई को लड़ना हर किसी की जिम्मेदारी है.

इसी के बाद उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और मौजूदा लोकसभा सांसद अखिलेश यादव ने भी अपनी सांसद निधि से मदद का ऐलान किया.

अखिलेश ने ट्वीट कर कहा कि अपनी सांसद निधि से 1 करोड़ की राशि आज़मगढ़ मेडिकल कॉलेज के समस्त चिकित्सकों-स्वास्थ्यकर्मियों के 'पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विप्मेंट' व कोरोना-जांच की 'टेस्टिंग किट' हेतु देते हुए मैं समस्त जनता से इस कठिन समय में सहयोग की अपील करता हूं.

अपनी सांसद निधि से 1 करोड़ की राशि आज़मगढ़ मेडिकल कॉलेज के समस्त चिकित्सकों-स्वास्थ्यकर्मियों के 'पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विप्मेंट' व कोरोना-जाँच की 'टेस्टिंग किट' हेतु देते हुए मैं समस्त जनता से इस कठिन समय में सहयोग की अपील करता हूँ.

गौरतलब है कि सांसद और विधायकों को एक निश्चित राशि मुहैया की जाती है, जिसके तहत वो अपने क्षेत्रों में विकासकार्यों को करवा सकते हैं. लेकिन अब जब इस तरह की महामारी सामने आई है और सभी लोग अपने घरों में कैद हो गए हैं, तो सांसदों ने आगे बढ़कर ये फैसला लिया है.

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में केंद्र सरकार की ओर से 15 हजार करोड़ रुपये की राशि का ऐलान किया था. इस राशि का ऐलान कोरोना महामारी से निपटने के लिए स्वास्थ्य सेवाओं के लिए किया गया है, ताकि किसी तरह की कमी ना आ सके.

Next Story
Share it
Top