Top
undefined

होशंगाबाद, रायसेन, सीहोर, छिंदवाड़ा, सिवनी, बालाघाट जलमग्न, 40 गांव के 12 सौ से अधिक लोग बाढ़ में फंसे

बरगी, तवा, बारना डेम से छोड़े जा रहे पानी से निचले इलाके में मचेगी तबाही

X

भोपाल। भारी बारिश से नर्मदा नदी उफान पर हैं। बरगी और तवा बांध से लगातार छोड़े जा रहे पानी से नर्मदा होशंगाबाद में खतरे के निशान से 16 फीट और देवास जिले के नेमावर में 20 फीट ऊपर बह रही है। भारी बारिश से नर्मदा नदी में आई बाढ़ से उसकी सहायक दनियां का बहाव रुकने से आधा दर्जन जिलों के सैकड़ों गांव जलमग्न हो गए हैं। प्रदेश के छिंदवाड़ा, सिवनी, बालाघाट के साथ होशंगाबाद, रायसेन और सीहोर जिले में बाढ़ ने भारी तबाही मचाना शुरू कर दिया है। इन जिलों के करीब एक हजार गांव में पानी घुस गया है। रविवार दोपहर 12 बजे की स्थिति में 40 गांव में 12 सौ से अधिक लोग बाढ़ से चारों तरफ से घिरे हुए हैं। वहीं बीती रात और आज 12 बजे तक सेना के हेलीकॉप्टर से आधा सैकड़ा को एयरलिफ्ट किया जा चुका है।

मुख्यमंत्री ने बताया कि आज सुबह से सेना के पांच हेलीकॉप्टर राहत व बचाव कार्य में जुटे हुए हैं। आज सुबह सेना के दो हेलीकॉप्टरों से शाहगंज के पास सोमलवाड़ा गांव में फंसे एक दर्जन से अधिक लोगों को एयरलिफ्ट कर शाहगंज पहुंचाया गया है।

85 लोगों को निकालना शुरू

रायसेन जिले के बरेली के पास भौंती गांव चारों तरफ से पानी से घिर गया है। इस गांव में कुल 85 लोग रात भर से बाढ़ में फंसे हुए हैं। सेना के दो हेलीकॉप्टरों की मदद से रेस्क्ूय ऑपरेशन शुरू हो गया है। यहां से लोगों को सुरक्षित पहुंचाया जा रहा है। वहीं आज सुबह बालाघाट के खैरलांजी के पाए एक गांव से पांच लोगों को एयरलिफ्ट कर बाहर निकाला गया है।

होशंगाबाद में दो हेलीकॉप्टर जुटे

होशंगाबाद और आसपास के गांव में फंसे लागों को बाहर निकालने के लिए सेना के दो हेलीकॉप्टर लगे हुए हैं। यहां ऐ एक दर्जन लोगों को अभी तक बाहर निकाला जा चुका है। आज देर शाम तक राहत व बचाव कार्य जारी रहने की संभावना है।

कैसे निकलेंगे 12 सौ लोग

आज सुबह की स्थिति में बाढ़ प्रभावित छह जिलों के 40 गांव के 12 सौ से अधिक लोग चारों तरफ से बाढ़ में फंसे हुए हैं। इन लोगों तक एनडीआरएफ नाव की मदद से पहुंचने का प्रयास कर रही है। हालांकि बाढ़ की विभीषिका की वजह से लोगों को बाहर नहीं निकाला जा सका है।

पल-पल की अपडेट

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सीएम हाउस में बनाए गए कंट्रोल रूप में बैठकर रात भर बाढ़ की स्थिति का जायजा लेते रहे। उन्होंने आज सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात कर स्थिति की जानकारी दी है। दोपहर बाद मुख्यमंत्री ने होशंगाबाद और सीहोर जिले के बाढ़ प्रभावित गांवों का हवाई सर्वे पहुंच गए हैं।

Next Story
Share it
Top